बिहारी पहचान 14: जानिए डांसर, माॅडल, प्लेयर और भावी राजनेता आतिशा को

आज हम बात कर रहे हैं आतिशा प्रताप रुड़ी की. आतिशा की पहचान यूं तो देश की जानी मानी कुचिपुड़ी नृत्यांगना के तौर पर है पर इससे भी आगे वह एक खुबसूरत माॅडल और जबरदस्त फुटबाल प्लेयर भी हैं. आतिशा के पिता राजीव प्रताप रुड़ी बिहार के सारण लोकसभा क्षेत्र से सांसद हैं. रुड़ी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और नरेंद्र मोदी की सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं.

आतिशा का जन्म 5 मई 2000 को हुआ था. घर में लोग उन्हें प्यार से एंजेल कहकर बुलाते हैं. आतिशा की प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली के संस्कृति स्कूल से हुई है. नृत्य की दुनिया में प्रवेश करने के बाद उन्होंने कुचिपुड़ी नृत्य में ही स्नातोकत्तर की डिग्री हासिल की.

आतिशा खुद को जन्मजात नृत्यांगना मानती हैं. परिजन बताते हैं कि आतिशा जब 03 साल की थी तभी से गाने की धुन पर थिरकना शुरु कर दिया था. इतना हीं नहीं, उन्हें इसी उम्र में आतिशा को कुचिपुड़ी के स्टेप्स का भी अंदाज लगना शुरु हो गया था.

आज की तारीख में आतिशा एक प्रशिक्षित नृत्यांगना हैं. उनकी भावपूर्ण प्रस्तुती दर्शकों को सम्मोहित कर देती हैं. आतिशा ने नवंबर 2016 में पेरिस में हुए नमस्ते फ्रांस फेस्टिवल में परफाॅर्म किया था जिसकी काफी सराहना हुई थी. यह संभवतः उनके लिए पहले सबसे बड़ा मंच था. इसके बाद एक और मौका आया जब उन्होंने दिल्ली के कमानी आॅडिटोरियम में एक सोलो डेब्यू काॅन्सर्ट में रंगाप्रवेशम कार्यक्रम में अपनी अद्भुत प्रस्तुती ने सबको प्रभावित किया. इस कार्यक्रम में उनके पिता राजीव प्रताप रुड़ी भी मौजूद थें. इस दौरान जब रुड़ी मंच पर पहुंचेें तो आतिशा पिता के गले मिलते हीं मंच पर हीं भावुक हो गई थी. यह उनके लिए एक यादगार पल था. आतिशा कहती हैं कि आज मुझे जितने मंच मिलें और जितना प्यार मिला वह मेरे आदरणीय गुरु राजा राधा रेड्डी और कौशल्या रेड्डी के कुशल मार्गदर्शन और कठिन प्रशिक्षण का नतीजा है.

आतिशा को शुरु से माॅडलिंग का भी शौक रहा है, जिसे उन्होंने 2015 में पूरा किया. माॅडलिंग में उन्हें पहला ब्रेक फैशन डिजायनर आसिमा लीना ने दिया. आतिशा ने लीना के ब्राइडल कलेक्शन के लिए कैटवाॅक किया. इसके साथ हीं आतिशा ने नामचीन डिजायनर मधु जैन के स्प्रिंग समर कलेक्शन के लिए माॅडलिंग किया.

इसके साथ हीं आतिशा स्पोर्ट्स में भी काफी रुचि रखती हैं. फुटबाॅल और घुड़सवारी की शौकिन आतिशा 2014 में अंडर 16 वल्र्ड वूमेंस फुटबाॅल के लिए नेशनल टीम की ओर से भी खेल चुकी हैं.

सीख रहीं राजनीति का ककहरा
आतिशा को कई बार अपने पिता के साथ पब्लिक मीटिंगों और पार्टी के कार्यक्रमों में देखी गई है. 2014 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने अपने पिता के लिए प्रचार भी किया था. वह अपने पिता को काफी फाॅलो करती हैं और उनके जैसा बनना चाहती हैं. आतिशा का मानना है कि राजनीति सेवा का सबसे सशक्त माध्यम है.  माना जाता है कि राजीव प्रताप रुड़ी की विरासत को आतिशा हीं संभालेंगी. ऐसी चर्चा सारण लोकसभा क्षेत्र में भी होती है. आतिशा सोशल मीडिया पर भी काफी एक्टिव हैं और फेसबुक, इंस्टाग्राम पर उनके काफी फाॅलोवर्स है.

Rate this post
  • 60
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    60
    Shares

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here