सृजन घोटाला के रेहू मछली है सुशील मोदी, पकड़ा रहा है गरई

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने सृजन घोटाले पर सीएम नीतीश कुमार एवं डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी को आड़े हाथों लिया है. उन्होंने कहा कि यह घोटाला नहीं महाघोटाला है. 1000 करोड़ रुपये के राशि की अवैध निकासी हुई है.

लालू ने कई पुरानी तस्वीरों को संवाददाताओं के समक्ष रखा जिसमें सृजन की मनोरमा देवी के साथ डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, शाहनवाज हुसैन, दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी आदि साथ साथ बैठे हुए हैं.

लालू ने कहा कि इस घोटाले में दाग छिपाने के लिए गरई मछली को पकड़ा जा रहा है, इसकी बड़ी मछली सुशील मोदी है, इनको कब पकड़ा जाएगा. सीबीआइ जांच के बाद हीं मामला साफ होगा. ये सारा जिम्मेवारी फाइनेंस मिनिस्ट्री का है. इतना पैसा कैसे ट्रेजरी से निकल गया और कौन ले गया ? एनजीओ से सुशील मोदी का रिश्ता तस्वीरों से साफ पता चल रहा है.

लालू के सवाल
लालू यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि कई सारी बातें छिपाई जा रही है. उन्होंने सरकार से सवाल किया कि सरकारी पैसे को सृजन के खाते में रखने का आदेश किसने दिया ?
जब रिजर्व बैंक ने मामले की जांच का आदेश दिया तो जांच हुआ या नहीं ? जांच हुआ तो उसका रिपोर्ट कहां हैं, जांच नहीं हुआ तो क्यों ?
इतनी बड़ी राशि की अवैध निकासी हो गई और सीएम को पता तक नहीं चला, ऐसा हो नहीं सकता. अतः इसकी जांच सीबीआइ से होनी चाहिए. स्टेट की एजेंसी से निष्पक्षता की उम्मीद नहीं है.

नहीं चलने देंगें विधानसभा
लालू ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि सुशील मोदी के वित्त मंत्री रहते यह घोटाला हुआ है. अतः नीतीश सुशील मोदी को मंत्रिमंडल से निकाल बाहर करें नही ंतो राजद विधानसभा नहीं चलने देगा. जिस आधार पर मेरे उपर एफआइआर दर्ज हुआ है, उसी आधार पर सुशील मोदी पर भी एफआइआर होना चाहिए.

सरदार सिमरनजीत सिंह
About सरदार सिमरनजीत सिंह 690 Articles
जानते तो जरूर होगे मुझे नहीं जानतेे तो कोई बात नहीं अब जान लो........ नाम तो जरूर सुना होगा नहीं सुना तो कोई बात नहीं अब सुन लो..... बिहारी हूं, अपनी धुन में रहता हूं धुन का पक्का नहीं पर मन का सच्चा हूं. पत्रकारिता और लेखन शौक है. बिहार के सासाराम का रहने वाला हूं, कुछ पल गुजार चुका हूं बिहार के हिंदी अखबारों में पर जिंदगी गुजर जाएगी अब बिहारी खबर के पोर्टल पर.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*