बिहार पहुंचे राजीव के लिए रिक्शा वाले ने रसगुल्ला खरीद लिया !

देश के पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी की आज जयंती है. इस मौके पर हम आपको राजीव के बिहार यात्रा से जुड़ा एक किस्सा सुर्खियों में आ गया था. दरअसल राजीव गांधी देश के अब तक के इकलौते ऐसे प्रधानमंत्री थें जिन्हें सुरक्षा घेरा और तामझाम पसंद नहीं था. देश की आजादी के बाद के वो एक पहले ऐसे प्रधानमंत्री थें जो आम आदमी के बीच जाकर उनसे मिलना और बातचीत करना बेहद पसंद करते थें.

भागलपुर दंगा: मुसलमानों को मारकर खेत ...

रिक्शेवाले के साथ रसगुल्ला खाया

अक्टूबर 1989 में राजीव गांधी बिहार के भागलपुर आए थें. राजीव गांधी बेफिक्र होकर भागलपुर की सड़कों पर घूम रहे थें और लोगों से मिल रहे थें. इसी बीच उन्होंने कोतवाली चौक पर एक रिक्शा वाले से मिलकर उनका हालचाल पूछ लिया और उसके परिवार से जुड़ी कुछ बातें कर ली. रिक्शा वाला राजीव से मिलकर इतना खुश हुआ कि पास के ही एक मिठाई दुकान से पत्ते की प्लेट में दो रसगुल्ला खरीद कर ले आया और दौड़ कर थोड़ी दूर जा चुके राजीव गांधी के पास पहुंच गया और उनके सामने रसगुल्ले पेश कर दिए.

राजीव गांधी: ''आजादी के बाद ...

कोमल स्वभाव के राजीव ने रिक्शा वाले का दिल नहीं दुखाया बल्कि एक रसगुल्ला अपने हाथों से उसे खिलाया और दूसरा खुद खा लिया. यह वह दौर था जब भागलपुर में दं.गे हुए थें और सद्भाव कायम करने के उद्देश्य से राजीव बिहार आए हुए थें.

दं.गों को लेकर लोगों का गुस्सा चरम पर था. राजीव के काफिले के साथ ध…क्का………..मुक्की भी हुई. कई कांग्रेस नेताओं के साथ लोगों ने बद…..स…लूकी भी कि लेकिन पीएम राजीव ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी बल्कि शांत और संयमित बने रहें. राजीव गांधी के इस व्यवहार की देश भर में सराहना हुई. ये वही दं……गा था जिसके बाद मुस्लिम वोटर बिहार में कांग्रेस से दूर हो गया और आज तक कांग्रेस बिहार में कमजोरी का शिकार है और बैसाखी के सहारे ही जैसे तैसे राजनीति कर रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here