पटना से गाँव जाना होगा आसान

0
460

121 नए बसों का परिचालन बिहार परिवहन विभाग द्वारा किया जा रहा है. परिवहन विभाग के अनुसार अंतर क्षेत्रीय मार्गों के अलावे राज्य में पहले से निर्धारित यह ऐसे मार्ग होंगे, जहाँ अगले एक महीने में लोगों को बस की सुविधा मिलने लगेगी. पहले 80 और उसके बाद 41 रूटों की अधिसूचना परिवहन विभाग द्वारा नए बस रूट के लिए जारी की गयी है. आइये अब अपने चर्चा के बीच हम जानते हैं की वह कौनकौन से बस रूट हैं जिन्हें अधिसूचित किया गया है. तो बता दें की परिवहन विभाग की तरफ से जारी की गयी अधिसूचना में मुंडेश्वरी, पटना, खजुरा बाज़ार, बक्सर, मीना, बिहारशरीफ, अतरी, मसौढ़ी से कुनौली, नवगढ़, लौकही, आरा, सासाराम, जन्दाहा, गौरीचक, समस्तीपुर, चंदौना, मधुबनी, सिमरी बख्तियारपुर, गया, अंध्रामठ और भभुआ जैसे मार्ग शामिल हैं. साथ हीं साथ बैरिया के नए पाटलिपुत्र बस स्टैंड से मीठापुर बस पड़ाव तक का रूट, बिहटा जाने, पटना के गाँधी मैदान से बख्तियारपुर, पालीगंज और नौबतपुर तक के रूट को भी अधिसूचित किया जा चूका है.

राज्य में 110 बस स्टॉप को बनाने का निर्णय लिया गया है ताकि बसों के परिचालन के साथसाथ लोगों को और अभी अच्छी सुविधा दी जा सके. अक्सर बस से यात्रा करने वाले लोगों को सड़क पर खड़े होकर बस का इंतज़ार करना पड़ता था. लेकिन अब नए बस स्टॉप के निर्माण से लोगों को सड़क किनारे खड़े होकर परेशान नहीं होना पड़ेगा. सभी जिलों से स्टॉप बनाने के लिए राज्य सरकार के दिशानिर्देश पर परिवहन विभाग द्वारा जगह चिन्हित कर रिपोर्ट की मांग की गयी है. जानकारी के लिए बता दें की ये बस स्टॉप वाले जगह वो जगह होंगे जहाँ से अधिकत्तर लोगों को बसों के परिचालन की सुविधा मिल सके. यदि बसों का परिचालन होता है तो यह परिचालन ग्रामीण इलाकों में बसों का परिचालन अधिक हो जाएगा. ऐसा होने पर बसों के यात्रियों की संख्या बढ़ेगी तथा राज्य में बस स्टॉप के होने से सड़क दुर्घटना में कमी आएगी.

दरअसल अक्सर ऐसा देखा जाता है की बस स्टॉप के नहीं होने से लोग कहीं पर भी बस को रोक लेते हैं या बस चालक को भी हमेशा यात्रियों को बैठाने के लिए कहीं पर भी बस रोकना पड़ता है. ऐसी स्थिति में दुर्घटना होने की सम्भावना अधिक होती थी. लेकिन बस स्टॉप के बन जाने से यात्री बस स्टॉप पर हीं रुक कर बस का इन्तजार करेंगे और बस चालक को भी सड़क पर इधरउधर बस नहीं रोकना पड़ेगा. ऐसे में दुर्घटना की सम्भावना पहले के मुकाबले काफी कम हो जायेगी.

बताते चलें की बिहार के छोटे शहरों से दूसरे राज्यों के लिए राज्य सरकार द्वारा बस सेवा शुरू करने का दिशानिर्देश दिया गया था. छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल के लिए योजना के पहले चरण में गया, राजगीर, पूर्णिया, छपरा और मुजफ्फरपुर जैसे शहरों से बस चलाने की योजना बनाई गयी थी. इस प्रस्ताव की स्वीकृति बिहार राज्य पथ परिवहन निगम द्वारा भी दे दी गयी थी. लिहाजा देश के किसी भी कोने में राज्य में पटना के अलावा छोटेछोटे शहरों से जाना आसान हो जाएगा. बताते चलें की दूसरे राज्यों में जाने के लिए अपने राज्य के छोटेछोटे शहरों से बस की सुविधा नहीं थी. इस बात की जानकारी विभागीय अधिकारियों ने दी थी. लेकिन अब इस योजना के द्वारा दूसरे राज्य में भी बिहार के छोटेछोटे शहरों से जाना आसान हो जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here