बाढ़ का कहरः उत्तर बिहार में पानी में डूबने से 18 लोगों की मौत

0
214

उत्तर बिहार में भारी बारिश और नेपाल द्वारा पानी छोड़े जाने के बाद से उत्तर बिहार की कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. इस बार सबसे ज्यादा तबाही गंडक नदी से हुई है. उत्तर बिहार में शुक्रवार को अलग अलग स्थानों पर डूबने से 18 लोगों की जान चली गई है. सिर्फ मुजफ्फरपुर में ही डूबने से नौ लोगों की मौत हो गई। इनमें चार बच्चे भी शामिल हैं. आठ के शव बरामद कर लिये गए हैं. एक युवक की तलाश जारी है सबसे अधिक मीनापुर में तीन की डूबने से मौत हुई है. मोतिहारी में चार लोगों और मधुबनी में तीन बच्चियों की डूबने से मौत हो गई. वहीं दरभंगा व सीतामढ़ी में एक-एक महिला की डूबने से जान चली गई.

उत्तर बिहार में नदियाों के बांध टूटने से कई गांवों में पानी घुस गया है. लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. पिछले चार दिनों से हो रही लगातार बारिश से तेजी से पानी बढ़ रहा है। नये क्षेत्रों में तबाही मचनी शुरू हो गई है एक सप्ताह पूर्व से ही बररी पंचायत का संपर्क प्रखंड मुख्यालय सहित एक दूसरे गांव से कटा हुआ है. दर्जनों परिवार विस्थपित हैं. तेजी से बढ़ रहे पानी से कई जगहों पर महराजी बांध क्षतिग्रस्त हो गया है. पाली पंचायत के सौली घाट के वार्ड एक में जाने का रास्ता अवरुद्ध हो गया है. सड़क पर पानी आर-पार बह रहा है. सड़क टूटने की संभावनाएं प्रबल हो गई है.

ग्रामीणों ने बताया कि मिट्टी भरा बोरी से क्षतिग्रस्त बांध पर देने का काम किया जा रहा है. रास्ता अवरूद्ध रहने से चानपुरा पश्चिम और धनुषी गांव के लोगों के समक्ष विकट स्थिति बनी है. बजरंगबली मंदिर के निकट बांध पर दवाब बन रहा है. कभी भी टूट सकता है. नजरा टेढ़ा और वीरेंद्र यादव के घर के निकट बांध को बचाने में विभाग व ग्रामीण पूरी तत्परता दिखाई जा रही है. बिहार में इस समय बाढ़ का कोरोना जैसी महामारी एक साथ आ गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here