यूनिवर्सिटी ऑफ लीड्स ने 2 अणुओं के बराबर सोने का निर्माण किया

0
396

दुनिया में सबसे कम परत वाली सोने का निर्माण किया गया है. यह इतना पतला है की आप इसे हमारे नाख़ून से केवल 10 लाख पतला मानिये इतना सूक्ष्म परत की सोने का उपयोग चिकित्सीय उपकरण में किया जायेगा। ब्रिटेन के यूनिवर्सिटी ऑफ लीड्स के अनुसंधानकर्ताओं ने दुनिया का सबसे छोटा सोने की परत को तैयार किया है. उन्होंने इसकी मोटाई 0.47 नैनोमीटर बताया है। कहा गया है कि यह 2डी है क्यूँकि इसके ऊपर 2 परत चढ़ी है और यह केवल 2 अणुओं के बराबर है. जानकारी के अनुसार यह नवनिर्मित सोना की परत वर्तमान में उपयोग में लायी जाने वाली स्वर्ण नैनोकणों से कई मामलों में ज्यादा प्रभावी है। कैंसर ठीक करने वाले उपकरण में इसका काफी उपयोग है। इसका व्यापक उपयोग उद्दोग-धंधे में भी होने वाला है। इलेक्ट्रॉनिक उद्दोग और चिकित्सीय उपकरण में इसके अनुप्रयोग व्यापक हैं और यह एक अच्छा उत्प्रेरक है। औद्योगिक कार्यों में विभिन्न रासायनिक प्रक्रिया में भी तेजी से इसका उपयोग किया जायेगा। ब्रिटेन के यूनिवर्सिटी ऑफ लीड्स के अनुसंधानकर्ताओं ने कहा है कि यह एक ऐतिहासिक उपलब्धि है।

यह विश्वविद्द्यालय वेस्ट यॉर्कशाय इंग्लैंड में एक समूह विश्यविदद्यालय है. इसकी स्थापना 1874 में यॉर्कशायर कॉलेज ऑफ साइंस के नाम से हुआ था। फिर लीड्स स्कूल ऑफ मेडिसिन विश्वविद्यालय के साथ इसका विलय 1884 में हो गया और 1887 में संघीय विक्टोरिया विश्वविद्यालय का हिस्सा बना। यह ब्रिटेन का पांचवां सबसे बड़ा विश्वविद्यालय है और दुनिया के विश्वविद्यालय में 20वें स्थान पर है. 2014 में शोध शक्ति के लिए अनुसंधान उत्कृष्टता फ्रेमवर्क में 10 वें स्थान पर रखा गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here