श्रमिक स्पेशल ट्रेनों पर इतने दिनों में 30 बच्चों ने लिया जन्म, नाम रखाया कोरोना कुमारी, लॉकडाउन यादव

0
505

कोरोना वायरस के कारण पूरे देश मे लॉकडाउन का ऐलान किया गया है. ऐसे में लोग जहां के तहां फंसे हुए हैं. केंद्र सरकार और राज्य सरकार की मदद से श्रमिकों को अपने प्रदेश में लाया जा रहा है. इसको लेकर रेलवे द्वारा 1 मई से श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू किया गया है. जिसके तहत अबतक 37 लाख श्रमिको को प्रदेश में लाया गया है. रेलवे से यात्रा के दौरान अबतक रेलगाड़ियों पर 30 बच्चे ने जन्म दिया है.

लॉकडाउन का कारण अपने प्रदेश से बाहर फंसे प्रवासी मजदूरों को अपने प्रदेश में लाने के लिए 1 मई से श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू किया गया है. जिससे अबतक लाखों लोग अपने प्रदेश में आ चुके हैं. श्रमिक स्पेशल ट्रेन में यात्रा के दौरान कई बच्चों ने जन्म लिया है. पिछले सोमवार को नौ महीने के गर्भ के साथ बेंगलुरु से यूपी स्थित अपने घऱ लौटने के लिे श्रमिक विशेष ट्रेन में सवार हो गई वहीं यात्रा के दौरान सह यात्रियों की मदद से बेटे को जन्म दिया. इस बच्चे की तस्वीर बेंगलुरू पुलिस ने शेयर भी की है.

बीते शुक्रवार को श्रमिक स्पेशल ट्रेन से घऱ आ रही मधु कुमारी ने बच्चे को जन्म दिया, जच्चा और बच्चा दोनों स्वस्थ्य हैं. इनको जब प्रसव पीड़ा हुई तो रेलवे कर्मचारियों ने इसकी सूचना रेलवे सुरक्षा बल को दी. बच्चे का जन्म रेलगाड़ी को झांसी स्टेशन पहुंचने से पहले हो गई थी. श्रमिक स्पेशल ट्रेन में पहला बच्चा आठ मई को हुआ था. तब गुजरात से अकेले बिहार आ रही ममता यादव ने बच्चेको जन्म दिया. यात्रियों ने इस बच्चे का नाम कोरोना कुमारी रख दिया है. इधर 13 मई को पिंकी यादव ने अहमदाबाद-फैजाबाद श्रमिक विशेष ट्रेन पर आरपीएफ कर्मियों की मदद से अपने बेटे को जन्म दिया है. रविवार को उत्तर प्रदेश आने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेन में एक महिला ना एक बच्ची को जन्म दिया उसका नाम लॉकडाउन यादव रखा गया है. बेंगलुरु से शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के बलरामपुर आ रही एक और महिला ने एक बच्ची को जन्म दिया है.

स्त्रोतः- https://www.livehindustan.com/national/story-30-children-were-born-in-shramik-special-trains-they-named-like-corona-kumari-lockdown-yadav-3236222.html

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here