पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन पर बिहार में 7 दिनों का राजकीय शोक, बिहार से रहा है आत्मीय लगाव

0
100

पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न प्रणव मुखर्जी के निधन पर राज्य में 7 दिनों के राजकीय शोक की घोषणा की गई है. इस दौरान राष्ट्रीय ध्वज उन सभी भवनों पर आधा झुका रहेगा, जहां ऩियमित रूप से यह फहराया जाता है. इसके साथ ही प्रदेश में राजकीय समारोह एंव सरकारी मनोरंजन से संबंधित कार्यक्रम नहीं होगें.

आपको बता दें कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का बिहार का बहुत ही गहरा नाता रहा है. वे जब राष्ट्रपति बने थे तो उनका कई बार बिहार का दौरा हुआ था. उनका मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बहुत ही आत्मीय संबंध रहा है. यहीं कारण रहा है कि राष्ट्रपति बनन के बाद उनका बिहार आना जाना लगा रहा है. सीएम नीतीश कुमार की महत्वाकांक्षी योजना कृषि रोड मैप का भी उद्घाटन प्रणव मुखर्जी ने ही किया था.

प्रणव मुखर्जी का बिहार के बहुत ही अलग लगाव रहा है. आपको बता दें कि जब उनका राष्ट्रपति का कार्यकाल खत्म होने वाला था तो उन्होंने तीन बार बिहार का दौरा किया था. प्रणव मुखर्जी 2017 में तीन बार बिहार के दौरे पर आए थे. जिसमें उन्होंने मार्च में पहली यात्री कि थी तब वे आद्री के सिल्वर जुबली कार्यक्रम में शामिल होने के लिए बिहार आई थी. उसके बाद वे महात्मा गांदी की चंपारण यात्रा के शताब्दी समारोह में देश भर से आए हुए स्वतंत्रता सेनानियों को सम्मानित करने के लिए बिहार आए थे. उसी साल वे राजगी में होने वाले अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध महोत्सव कार्यक्रम में शामिल होने के लिए बिहार आए थे. इस कार्यक्रम का उन्होने उद्घाटन भी किया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here