उत्तर प्रदेश में 7 चरणों में होगा मतदान, कई मुद्दों पर होगी नजर, जाने चुनाव के बारे में सबकुछ

0
1488

साल 2022 की शुरुआत हो गई है और नए साल के साथ ही 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव का आयोजन भी होने वाला है। जिसमे सबसे ज़्यादा लंबा चुनाव उत्तर प्रदेश में होना वाला है। इतना ही नहीं पार्टियों के लिए भी उत्तर प्रदेश बहुत अहमियत रखता है क्योंकि सबसे ज़्यादा विधानसभा सीटें यहीं पर है।जिसके तहत कुल मिलाकर 403 विधानसभा सीटों पर मतदान होने वाला है। निर्वाचन आयोग की तरफ से मिली जानकारी के अनुसार कुल मिलाकर 7 चरणों में मतदान होगा जिसकी शुरुआत 10 फरवरी से होने वाली है जो कि 7 मार्च तक जारी रहेगी।वही 10 मार्च को परिणाम की घोषणा होगी.

चरणवार मतदान की जानकारी देने से पहले आप ये जान ले की इस बार उत्तर प्रदेश की धरती पर चुनावी मुद्दे है क्या क्या। युवा हों या महिलाएं, बुजुर्ग हों या कामगार हर किसी ने बेरोजगारी का मुद्दा उठाया है। इसके अलावा महंगाई के सवाल पर यूपी के लोग दो धड़ों में बंट जाते हैं। कुछ लोग कहते हैं कि महंगाई से आम जनता काफी परेशान है। वहीं एक दूसरा दल ऐसा भी है जो इस बात को तो मानते है कि महंगाई बढ़ी है लेकिन दलीलें भी देते है कि इसमें बढ़ौतरी क्यों हुई है। अगला मुद्दा है सड़के, अब आप ये सोचेंगे की उत्तर प्रदेश सरकार तो अब एक्सप्रेस वे तक पहुंच गई है ऐसे में सड़कों की समस्या कैसे हो सकती है तो हम आपको बता दे कि अभी भी उत्तर प्रदेश में कई ऐसे जिले है जहां पर सड़कों के बीच में गड्ढे की समस्या आम बात है अभी भी लगभग हर जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी महसूस की जा रही है हालांकि कोरोना के माहौल में तो देश भर की स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई थी वहीं उत्तर प्रदेश का भी हाल कुछ ऐसा ही रहा। इसके अलावा अन्य मुद्दों की बात करे तो ज्यादातर लोगों ने यह माना कि पहले के मुकाबले शिक्षा व्यवस्था में सुधार आया है लेकिन अभी भी सुधार की गुंजाइश बची हुई हैं। ये समस्याएं तो लगभग सभी वर्ग के लोगों की हुई अब उत्तर प्रदेश में किसानों को अपने खेमे में लाने की कवायद की जाएगी। पहले तो तीन कृषि कानून को लेकर किसानों का गुस्सा था लेकिन सरकार के कदम पीछे खींचने के बाद उम्मीद है कि किसानों के बीच भाजपा को लेकर नरमी आईं है.

हालांकि किसानों के चोट पर सरकार के इस पहल ने कितना मरहम लगाया है ये तो आने वाले समय में पता चलेगा लेकिन राज्य में किसानों के बीच अभी भी कई मुद्दे है जिसका समाधान किसान चाहते है जिसमें सबसे पहला मुद्दा है आवारा पशुओं से जुड़ा। क्योंकि हर बार यह देखा गया है कि आवारा पशुओं की कारण किसानों को हर साल भारी नुकसान का सामना करना पड़ता है। दूसरा मुद्दा है खाद की संकट, हालंकि यह परेशानी तो अभी देश के कई राज्यों में है लेकिन भाजपा को इसका खामियाजा चुनाव में भुगतना पड़ सकता है। अगला मुद्दा है फसलों का उचित समर्थन मूल्य ना मिलना। ये तीन ऐसे मुद्दे है जो किसानों के वोट का रास्ता खोलते है। हालांकि इस बार जानता का मिजाज क्या है क्या नहीं ये तो आने वाले समय में साफ हो जाएगा लेकिन उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर भाजपा, कांग्रेस, सपा, बसपा  समेत अन्य सभी दलों ने अपने जान फूंक दिए है। वैसे कोरोना का माहौल है ऐसे में चुनावी रैलियां तो पूरी तरीके से बंद अब देखना यह दिलचस्प होगा की कैसे पार्टियां अपनी बात जनता तक पहुंचाने में कामयाब हो पाती है।

 

अब आते है असल मुद्दे पर कि चुनाव तो सात चरणों में होने वाला है लेकिन किस किस चरण में किन किन सीटों पर वोट डाले जाएंगे इसकी जानकारी बहुत ज़रूरी है। तो ऐसे में हम पहले चरण की बात करे तो पहले चरण के तहत 10 फरवरी को वोट डाले जाएंगे।कैराना, थाना भवन, शामली, बुढ़ाना, छरतावल, पुरकाजी, मुजफ्फरनगर, खतौली, मीरापुर, सिवालखास, सरधना, हस्तीनापुर, किठौर, मेरठ कैंट, मेरठ, मेरठ साउथ, छपरौली, बरौत, बागपत, लोनी, मुरादनगर, साहिबाबाद, गाजियाबाद, मोदी नगर, दौलाना, हापुड़, गढ़मुक्तेश्वर, नोएडा, दादरी, जेवर, सिंकदराबाद, बुलंदशहर, सयाना, अनूपशहर, देबाई, शिकारपुर, खुर्जा, खैर, बरौली, अतरौली, छर्रा, कोइल, अलीगढ़, इगलास, छाता, मंत, गोवर्धन, मथुरा, बलदेव, एतमादपुर, आगरा कैंट, आगरा साउथ, आगरा नॉर्थ, आगरा रूरल, फतेहपुर सीकरी, फतेहाबाद, बाह शामिल है।

 

फेस-2 के लिए 14 फरवरी को वोट डाले जाएंगे जिसमें बेहट, नाकुर, सहारनपुर नगर, सहारनपुर, देवबंद, रामपुर-मनिहरण, गंगोह, नाजिबाबाद, नगीना, बरहापुर, धामपुर, नेहटौर. बिजनौर, चांदपुर, नूरपुर, कांठ, ठाकुरद्वारा, मुरादाबाद रूलर, मुरादाबाद नगर, कुन्दरकी, बिलारी, चंदौसी, असमोली, संभल, सुआर, चमरुआ, बिलासपुर, रामपुर, मिलक, धनेरा, नौगाव सादत, अमरोहा, हसनपुर, गुन्नौर, बिसौली, सहसवान, बिलसी, बदायूं, शेखपुर, दातागंज, बहेरी, मीरगंज, भोजीपुरा, नवाबगंज, फरीदपुर, बिथारी चैनपुर, ओनला, कतरा. जलालबादतिहार, पोवायण, शाहजहांपुर, ददरौल सीट शामिल है।

 

तीसरे फेज का मतदान 20 फरवरी को होगा जिसमें

हाथरस (एससी) ये सीट पीछले साल काफी चर्चा में रही थी वहीं  सादाबाद, सिकंदर राव, टूंडला (एससी), जसराना, फिरोजाबाद, शिकोहाबाद, सिरसागंज, कासगंज, अमनपुर, पटियाली, अलीगंज, एटाह, मरहारा, जलेसर (एससी), मैनपुरी, भोंगांव, किशनी (एससी), करहली, कैमगंज (एससी), अमृतपुर, फर्रुखाबाद, भोजपुर, छिबरामऊ, तिर्वा, कन्नौज (एससी), जसवंतनगर, इटावा, भरथना (एससी), बिधूना, दिबियापुर, औरैया (एससी), रसूलाबाद (एससी), अकबरपुर-रानिया, सिकंदर, भोगनीपुर, बिल्हौर (एससी), बिठूर, कल्याणपुर, गोविंदनगर, शीशमऊ, आर्य नगर, किदवई नगर, कानपुर छावनी।, महाराजपुर, घाटमपुर (एससी), माधौगढ़, कल्पी, उरई,(एससी) बबीना, झांसी नगर, मौरानीपुर (एससी), गरौठा, ललितपुर, मेहरोनी (एससी), हमीरपुर, रथ (एससी), महोबा, चरखारी सीट पर वोट डाले जाएंगे।

 

चौथे चरण का मतदान 23 को होगा जिसमें पीलीभीत, बरखेड़ा, पूरनपुर (सुरक्षित), बीसलपुर, पलिया, निघासन, गोला गोकर्णनाथ, श्रीनगर (सुरक्षित), धौरहरा, लखीमपुर, कस्ता (सुरक्षित), मोहम्मदी, महोली, सीतापुर, हरगांव (सुरक्षित), लहरपुर, बिसवांट, सेवता, महमूदाबाद, सिधौली (सुरक्षित), मिश्रिख (सुरक्षित), सवायजपुर, शाहाबाद, हरदोई, गोपामऊ (सुरक्षित), संडीला, बांगरमऊ,  सफीपुर (सुरक्षित),  मोहन (सुरक्षित), उन्नाव, भगवंतनगर, पुरवा, मलिहाबाद (सुरक्षित), बख्शी का तालाब, सरोजनी नगर, लखनऊ पश्चिम, लखनऊ पूर्व, लखनऊ उत्तर, लखनऊ सेंट्रल,  लखनऊ कैंट, मोहनलालगंज (सुरक्षित), बछरावां (सुरक्षित), हरचंदपुर, रायबरेली, सरेनी, ऊंचाहार, तिंदवारी, बबेर, नरैनी (सुरक्षित), बांदा, जहानाबाद, बिंदकी, फतेहपुर, अयाह शाह, हुसैनगंज, खागा सीट पर वोट डाले जाएंगे।

 

पांचवें चरण की बात करे तो इसपर 27 मार्च को वोटिंग होगी  जिसमें तिलोई, सलोन (एससी), जगदीशपुर (एससी), गौरीगंज, अमेठी, इसौली,सुल्तानपुर, सदर,  लाम्भुआ, कादीपुर (एससी), चित्रकूट,  मानिकपुर,  रामपुर खास,  बाबागंज (एससी), कुंडा,  विश्वनाथगंज, प्रतापगढ़, पट्टी, रानीगंज, सिराथू, मंझनपुर (एससी), चैल, फाफामऊ, सोरांव (एससी), फूलपुर, प्रतापपुर, हांडिया, मेजा, करचना, इलाहाबाद पश्चिम, इलाहाबाद उत्तर, इलाहाबाद दक्षिण, बारा (एससी),  कोरावं (एससी), कुर्सी, रामनगर, बाराबंकी, जैदपुर (एससी), दरियाबाद, रुदौली, हैदरगढ़ (एससी), मिल्कीपुर (एससी), बीकापुर, अयोध्या, गोसाईंगज, बल्हा (एससी), नानपारा, मटेरा, महासी , बहराइच, पयागपुर, केसरगंज, भींगा, श्रावस्ती, मेहनौन, गोंडा, कटरा बाजार,  कर्नलगंज, तराबगंज मनकापुर (एससी), गौरा सीट शामिल है

 

छठे चरण का मतदान 3 मार्च को होने वाला है जिसमें कटेहारी, टांडा, अलापुर (एससी), जलालपुर, अकबरपुर, तुलसीपुर, गेनसारी, उतरौला, बलरामपुर (एससी), शोहरतगढ़, कपिलवस्तु (एससी), बंसी, इतवा, डोमरियागंज, हररैय्या, कप्तानगंज, रुधौली, बस्ती सदरी, महादेवा (एससी),  मेंहदावली, खलीलाबाद, धनघाटा (एससी), फरेंदा, नौतनवा, सिसवा, महाराजगंज (एससी), पनियार, कैम्पियारगंज, पिपराइचो, गोरखपुर अर्बन, गोरखपुर ग्रामीण, सहजनवा, खजानी (एससी), चौरी-चौरा, बांसगांव (एससी), चिलुपारी, खड्ड, पडरौना, तमकुही राजो, फाजिलनगर, कुशीनगर, हट, रामकोला (एससी), रुद्रपुर, देवरिया, पथरदेव, रामपुर कारखाना, भाटपर रानी, सलेमपुर (एससी), बरहाजो, बेलथरा रोड (एससी), रसरस, सिकंदरपुर, फेफाना, बलिया नगर, बांसडीह, बैरिया सीट पर मतदान होने वाला है।

 

वहीं आखिरी चरण का मतदान 7 मार्च हो होगा जिसके तहत अतरौलिया, गोपालपुर, सागरी, मुबारकपुरी, आजमगढ़, निज़ामाबाद, फूलपुर-पवई, दीदारगंज, लालगंज (एससी), मेहनगर (एससी), मधुबनी, घोसी, मुहम्मदाबाद- गोहना (एससी), मऊ, बदलापुर, शाहगंज, जौनपुर, मल्हानी, मुंगड़ा बादशाहपुर, मछलीशहर (एससी), मरियाहु, जाफराबाद, केराकाट (एससी), जखानियन (एससी), सैदपुर (एससी), गाजीपुर, जंगीपुर, ज़हूराबाद, मोहम्मदाबाद, ज़मानिया, मुगलसराय, सकलडीह, सैयदराजा, चकिया (एससी), पिंडरा, अजगरा (एससी), शिवपुर, रोहनिया, वाराणसी उत्तर, वाराणसी दक्षिण, वाराणसी छावनी, सेवापुरी, भदोही, ज्ञानपुर, औराई (एससी), छनबे (एससी), मिर्जापुर, मझवानी, चुनारी, मरिहान, घोरावाली, रॉबर्ट्सगंज, ओबरा (एसटी), दुद्धी (एसटी) सीट पर वोट डाले जाएंगे।

 

जैसा की आप सब को पता है कि कोरोना का माहौल है ऐसे में चुनाव के दौरान कई सख्त नियम कानून भी लागू किए गए है जिसके तहत 80 वर्ष से अधिक उम्र के वरिष्ठ नागरिक, दिव्यांग व्यक्ति और कोविड-19 पॉजिटिव व्यक्ति पोस्टल बैलेट से मतदान कर सकते हैं। 15 जनवरी तक किसी तरह की रैली, रोड शो और पदयात्रा नहीं होगी। नुक्कड़ सभा, बाइक रैली पर भी रोक। कैंपेन में कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना जरूरी।  घर-घर जाकर पांच लोगों को प्रचार करने की अनुमति। जीत के बाद विजय जुलूस पर रोक रहेगी।संक्रमण ना फैले इसको लेकर चुनाव ड्यूटी में लगे सभी अधिकारी ऐसे होंगे, जो टीके की दोनों खुराक ले चुके हैं। उन्हें एहतियाती अतिरिक्त खुराक भी दी जा सकेगी।इसके अलावा चुनाव में धनबल का इस्तेमाल रोका जाएगा। गैरकानूनी पैसे-शराब पर कड़ी नजर रखी जाएगी। सभी एजेंसियों को अलर्ट कर दिया गया है वहीं चुनाव के मद्देनजर 2.15 लाख मतदान केंद्र होंगे। हर मतदान केंद्रों पर अधिकतम 1250 वोटर ही होंगे। हर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में एक मतदान केंद्र पूरी तरह से महिला स्टाफ के जिम्मे होगा। 690 निर्वाचन क्षेत्रों में ऐसे 1620 मतदान केंद्र होंगे। वहीं इन सब के बीच सबसे ख़ास बात यह है कि इस बार 24.9 प्रतिशत नए मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने वाले है जिसके बाद अब उत्तर प्रदेश की सत्ता इस बार किसके हाथ में जाती है किसके नहीं यह देखने वाली बात होगी हालंकि आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं कि आपके अनुसार इस बार उत्तर प्रदेश में किसकी सरकार बनेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here