उत्तर बिहार में 9 नदियां खतरे के निशान से ऊपर, गंगा के निचले इलाके में अलर्ट जारी

0
332

बिहार में पहले से ही कोरोना का कहर जारी है अब बाढ़ का खतरा पूरी तरह से मंडराने लगा है. उत्तर बिहार की नौ नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. इधऱ इन नदियां को पानी अब गंगा में चढ़ने लगा है. बक्सर से लेकर भागलपुर तक गंगा के जलस्तर में धीरे-धीरे वृद्धि हो रही है. इससे नदी से सटे निचले इलाकों में सतर्कता बढ़ा दी गई है. सहायक नदियों में उफान और गंगा में पानी भर जाने पर एक बड़े क्षेत्र में बाढ़ का खतरा गहरा सकता है. अगले दो दिनों तक जल ग्रहण क्षेत्रों में भारी बारिश की आशंका के चलते जल संसाधन मंत्री संजय झा ने अपने इंजीनियरों को सतर्क रहने का निर्देश जारी किया है.

केंद्रीय जल आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर बिहार की नौ नदियों का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर है. बागमती मंगलवार तक छह जगहों पर खतरनाक बनी हुई थी. हालांकि, बुधवार को कहीं-कहीं इसके पानी में कमी आई है. फिर भी सीतामढ़ी और मुजफ्फरपुर में खतरे के निशान से ऊपर है.

इधर कोसी और गंडक नदी के पानी में थोड़ी कमी आई है. फिर भी कोसी विकराल रूप धारण किये हुए हैं. यह कई इलाके में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. आपको बता दें कि कोसी के कई क्षेत्रों में पानी छोड़ने की रफ्तार में कमी आई है लेकिन अभी भी सहरसा से भागलपुर तक कोसी चार स्थानों पर अभी भी खतरनाक बनी हुई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here