मात्र 11 लोगों की टीम महज 10 रूपये में लोगों को खिलाती है भरपेट खाना

0
544

आज महंगाई के भी इस ज़माने में आपको महज 10 रूपये में भर पेट खाना खा सकते हैं। इस आश्चर्यचकित रसोई का नाम मां अन्नपूर्णा रसोईघर है. जिसे 11 लोग मिलकर इसे चलाते हैं. इसकी शुरुआत 35 साल पहले हुआ सालासर धाम में जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए लंगर लगाए जाने के उद्देश्य से किया गया था. लेकिन इसे एक विशेष पहचान साल 2012 में मिली। यह श्रीगंगानगर की इस संस्था है जयको लंगर सेवा समिति। इसे चलाने वाले टीमों में ये लोग शामिल है- साड़ी विक्रेता अनिल सरावगी, बिजली विभाग के कर्मचारी दीपक बंसल, सरकारी अस्पताल के कंपाउंडर महेश गोयल, फोटोग्राफर विनोद वर्मा, दाल मिल के मालिक रामावतार लीला, व्यवसायी राहुल छाबड़ा, चाय विक्रेता शंभू सिंगल, कपड़ा व्यवसायी पवन सिंगल, मुनीम राजकुमार सरावगी, व्यवसायी भूप सहारण, कपड़ा व्यवसायी राजेन्द्र अग्रवाल।

जयको लंगर सेवा समिति के सदस्य रामावतार लीला कहते है कि हमने शहर के लोगों से बातचीत की और लोगों ने ख़ुशी खुशी मदद करने के लिए तैयार हो गए. लोग 50 रूपये से 3000 रूपये तक देने को तैयार हो गए. दरअसल यहाँ बड़ी तादाद में लोग इलाज के लिए आते और वे गरीब होते। जिसके मदद के लिए उन्होंने सोची। चाय 3 रूपये में तो दूध का ग्लास 5 रूपये में मिल जाते हैं.

उन्होंने बताया कि कई का जन्मदिन के अवसर पर पार्टी न मनाकर हमारे यहाँ जरूरतमंदों को खाना खिलानापसंद करते हैं. इसे लोगों से हम 5100 रूपये लेते हैं और ऐसा दिन तकरीबन महीने में 15 दिन हो जाता है. इस दिन हम मुफ्त में भोजन देते हैं यानि कि उस दिन हम 10 रूपये भी नहीं लेते हैं. बता दें कि दोस्तों की यह टोली लॉक डाउन में भी सक्रीय रही. उन्होंने बताया कि लॉक डाउन में यह संख्या 200 पैकेट से बढ़कर 5000 तक हो गई. लॉक डाउन के दौरान उन्होंने करीब 5 लाख लोगों तक भोजन पहुँचाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here