बिहार में स्वास्थ्य विभाग ने की बड़ी कार्रवाई, इतने डॉक्टरों की वेतन वृद्धि रुकी

0
107

सरकारी अस्पतालों में डयूटी के दौरान गायब रहने वाले 194 चिकित्सकों के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग ने कार्रवाई किया है। इनमें 83 चिकित्सकों को तनख्वाह बढ़ोतरी रोकने का स’जा दिया गया है। वहीं, दूसरी तरफ 111 चिकित्सकों के मानदेय में एक हफ्ते की कटौती की गई है। जिन चिकित्सकों पर कार्रवाई किया गया है इनमें ड्यूटी पर लेट से आने वाले चिकित्सक भी सम्मिलित हैं।

स्वास्थ्य विभाग ने भारतीय चिकित्सा परिषद (MCI), नई दिल्ली द्वारा राज्य के अलग-अलग सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में निरीक्षण के दौरान चिकित्सकों के गायब रहने एवं ड्यूटी पर लेट से आते हुए पाए जाने पर यह कार्रवाई की है। साल 2018 के नवंबर और अप्रैल तथा मई, 2019 में विभिन्न तारीखों को MCI की समूह मेडिकल कॉलेज अस्पतालों के निरीक्षण के लिए बिहार पहुंची हुई थी। उस दौरान बड़े तादाद में चिकित्सक अस्पतालों से गायब पाए गए थे।

MCI की टीम 26 नवंबर 2018, 15 अप्रैल और 03, 04, 10 और 16 मई को बिहार दौरे पर आई थी। दंडित किए गए चिकित्सकों में बिहार चिकित्सा सेवा संवर्ग (Bihar Medical Services Cadre) के संविदा के आधार पर नियुक्त अध्यापक, सीनियर रेजिडेंट, ट्यूटर, जूनियर रेजिडेंट तथा नियमित चिकित्सा शिक्षक शामिल हैं। इनमें 26 नियमित चिकित्सा अध्यापक भी हैं। स्वास्थ्य विभाग के अवर सचिव विवेकानंद ठाकुर द्वारा जारी किए गए आदेश में इन सभी चिकित्सकों को सलाह दिया गया है कि वे भविष्य में इसे नहीं दोहराएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here