पटना एम्स में जल्द ही होगी रोबोटिक सर्जरी आरम्भ, रोबोट से सर्जनों ने ली ट्रेनिंग

0
690

बिहार की राजधानी पटना एम्स में अब रोबोट का प्रयोग किया जायेगा। एम्स के निदेषक डॉ प्रभात कुमार सिंह (Dr. Prabhat Kumar Sinh) ने जानकारी दी है कि पटना में एम्स के प्रयोग से मरीजों के सर्जरी में तेजी आएगी।  इसके लिए रोबोट की खरीदने की प्रक्रिया प्रारम्भ हो जाएगी।

सोमवार को रोबोटिक इन ऑन्कोलॉजी सम्मलेन का आयोजन किया गया था जिसमें निदेशक ने रोबोट से सर्जरी का डेमो कार्यकम का उदघाटन किया। उन्होंने कहा कि रोबोट के द्वारा जटिल ऑपरेशन सहजता से हो जाते हैं. मरीजों को अधिक पीड़ा भी नहीं होती है. यह सुविधा देश के गिने-चुने अस्पताल में ही मौजूद है. पटना एम्स में अत्याधुनिक सुविधाओं की व्यवस्था की जा रही है. संस्थान में अब रोबोटिक की भी व्यवस्था की जा रही है. इस सुविधा से अब मरीजों को कई प्रकर की सर्जरी करना आसान हो जाएगी. ऑन्कोलॉजी विभाग के हेड डॉ जगजीत कुमार पांडये (Dr. Jagjit Kumar Pandey) ने बताया है कि सम्मेलन के पहले दिन ही पटना एम्स के साथ ही बिहार एवं झारखंड के लगभग 100 से अधिक सर्जनों ने रोबोट से सर्जरी की ट्रेनिंग ली. यह ट्रेनिंग मंगलवार को भी लिया जायेगा तथा रोबेटिक के माध्यम से सजर्री पर सीएमई का आयोजन बुधवार को होगा.

ऑनकोलॉजी विभाग के हेड डॉ जगजीत कुमार पांडये ने बताया कि डी-हाइडेफिनिशन विजुअल सिस्टम एक छोटा-सा उपकरण है जिसे शरीर में प्रवेश कराया जाता है और यह रोबोट एक सर्जरी यंत्र है. इसे नियंत्रित किये जाने की व्यवस्था सर्जन के पास होती है. इस उपकरण में हाथ की ही तरह यंत्र होंगे और बीच में थ्री डी कैमरा होगा।
दिल्ली के कई प्राइवेट अस्पतालों में भी रोबोटिक सर्जरी की जा रही है. मानव हाथ के द्वारा की गई सर्जरी की अपेक्षा रोबोट से की गई सर्जरी में कम खून निकलता है और ऑपरेशन के बाद दर्द भी कम होता है साथ ही इनफेक्शन का भी खतरा कम जाता है।

हृदय शल्य चिकित्सा कॉलोरेक्टल सर्जरी, जनरल सर्जरी, गायनोकोलॉजिक सर्जरी, सिर-गर्दन सर्जरी, गला-नाक की सर्जरी, शिशु की सर्जरी, वक्ष शल्य चिकित्सा, प्रोस्टेज सहित सभी जटिल ऑपरेशन इसके द्वारा किया जा सकता है.
रोबोट से सर्जरी करने के लिए डॉ बिंदे, डॉ संजीव कुमार, डॉ अनिल कुमार, डॉ कमलेश गुजंन, डॉ अजीत कुमार, डॉ मोनिका आंनद, डॉ नमीशा, डॉ हेमेंद्रा, डॉ अमीत रंजन, डॉ प्रशांत कुमार और डॉ प्रणव कुमार समेत बिहार एंव झारखंड से आये हुए करीब सौ से अधिक सर्जन्स ने प्रशिक्षण लिया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here