जानिए अररिया विधानसभा क्षेत्र से अब तक विधायक

0
242

आज बात करेंगे 2015 में हुए बिहार विधानसभा चुनाव की. बिहार विधानसभा क्षेत्र अररिया से मौजूदा विधायक अविदुर रहमान हैं. अविदुर रहमान कांग्रेस से हैं और 2015 में इस विधानसभा क्षेत्र से चुनाव प्रत्याशी हुए थे जिसमें उन्हें 92 हजार 6 सौ 67 वोट हासिल किया था वहीँ उनके विपक्षी प्रत्याशी लोजपा से अजय कुमार झा भी खड़े हुए थे और उन्हें 52 हजार 6 सौ 23 वोट प्राप्त हुआ था. बोटों का अंतर तक़रीबन 40 हजार था. कांग्रेस के अविदुर रहमान भारी मतों से जीत दर्ज किया था.

अब बिहार विधानसभा चुनाव 2010 को देखें तो वर्ष 2010 के नवम्बर माह में बिहार विधानसभा का चुनाव हुआ था. इस चुनाव में जाकिर हुसैन खान विधायक हुए थे. जाकिर हुसैन खान लोजपा पार्टी से थे और उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी नारायण कुमार झा को हराया था. नारायण कुमार झा भाजपा के टिकट से चुनावी मैदान में खड़े हुए थे.

अब इसके पूर्व हुए वर्ष 2005 के बिहार विधानसभा चुनाव को देखा जाये तो इस चुनावी वर्ष में प्रदीप कुमार सिंह वर्ष 2005 के अक्टूबर और फरवरी माह में विधायक चुने गए. इस दोनों चुनाव में उनके प्रतिद्वंदी मोइदुर रहमान थे. मोइदुर रहमान कांग्रेस पार्टी के सदस्य रहे थे.

अब हम चलते हैं वर्ष 2000 में हुए बिहार विधानसभा चुनाव की ओर। इस वर्ष अररिया सीट से विजय कुमार मंडल निर्दलीय विधायक हुए थे. स्वतंत्र रूप से खड़े हुए विनोद कुमार मंडल ने कांग्रेस के नेता मोइदुर रहमान को शिकस्त दे दी।

वर्ष 1995 में हुए बिहार विधानसभा चुनाव की बात की जाये तो बिहार पीपुल्स पार्टी के नेता विजय कुमार मंडल वर्ष 1995 में विधायक हो गए थे और उनके प्रतिद्वंदी भाजपा के दुर्गा दास राठौर को इस विधानसभा चुनाव में मुंह की खानी पड़ गई थी.

वर्ष 1990 के बिहार विधानसभा चुनाव को देखा जाये तो यह चुनावी वर्ष काफी महत्वपूर्ण था. इस चुनाव में आमनेसामने के कड़ी टक्कर में दोनों ओर से निर्दलीय उम्मीदवार ही थे. विनोद कुमार राय और नन्द किशोर मंडल दोनों निर्दलीय चुनाव लड़ रहे थे। जिसमें विनोद कुमार राय विधायक हो गए.

विकास कार्य:

विकास कार्य को देखा जाये तो इस क्षेत्र में कई विकास कार्य हुए हैं .प्रगति के लिए मूलभूत आवश्कताओं की बेहद आवश्यकता होती है जिसे होना अनिवार्य हैं. विकास के तौर पर पुलपुलिया का निर्माण लोगों को बड़ी राहत देने वाला साबित हुआ.

इसके निर्माण से कई विधानसभा क्षेत्र में विकास की बयार आई . बिजली भी गाँवगाँव तक पहुंची और लोगों की जिन्दगी में थोड़ी राहत हुई. शिक्षा के क्षेत्र में भी सुधार कार्यक्रम को कार्यान्वित किया गया. भवन और शौचालय का निर्माण भी हुआ लेकिन कुछ मूलभूत समस्याओं में अब भी शुरुआत किये जाने की जरुरत दिखती है.

चुनावी मुद्दा:

अररिया विधानसभा क्षेत्र के चुनावी मुद्दों की बात की जाये तो जिले के लोगों को मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेज नहीं होने को लेकर काफी मलाल है. इस मुद्दे को लेकर जनता सरकार से खफा हैं. अन्य मुद्दा भी हैं. वह है तटबंध का निर्माण क्यूंकि बाढ़ की परेशानी से हर बार जूझना होता है. युवा के लिए रोजगार और किसानों को अपने अच्छे उत्पादन और उनके बाजार से सम्बंधित समस्याओं के निदान की उम्मीद संजोए है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here