कोरोना वायरस की दवा बाजार में लाने के मामले में बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण पर बिहार में मुकदमा

0
519

योग गुरु बाबा रामदेव ने मंगलवार को कोरोना वायरस की दवा बनाने का दावा किया था और वकायदा उन्होंने इसे बाजार में लाने की भी बात कही है. इसके बाद से देश के आयुष मंत्रालय ने इस दवा के विज्ञापन पर रोक लगा दिया है. इसके बाद से पंतजली विश्वविद्यालय एवं शोध संस्थान के संयोजक स्वामी रामदेव और इस संस्थान के चेयरमैन आचार्य बालकृष्ण के खिलाफ मुजफ्फरपुर में मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी मुकेश कुमार की अदालत में मुकदमा दाखिल किया गया है.

मुकदमा मुजफ्फरपुर के अहियापुर थाना के भीखनपुर निवासी समाजसेवी तमन्ना हाशमी ने दाखिल किया है. अदालत ने इसे सुनवाई पर रखा है.दर्ज मुकदमा में आरोप लगाया गया है कि दोनों आरोपितों ने कोराना वायरस से बचाव के लिए कोरोनिल टेबलेट बनाया है. भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने इसके प्रचार पर रोक लगा दिया है. इस केस में यह भी कहा गया है कि बाबा रामदेव ने आयुष मंत्रालय सहित पूरे देश की जनता को धोखा दिया है. जिससे लाखों लोगों की जान खतरे में जा सकती थी.

मंगलवार को बाबा रामदेव ने कोरोना को सात दिन में पूरी तरह ठीक करने के दावे के साथ इस दवा को लांच किया था. उनका कहना था कि आयुर्वेद पद्धति से जड़ी-बूटियों के गहन अध्ययन और शोध के बाद यह दवा बनी है, जो शत- प्रतिशत फायदा पहुंचा रही है. मीडिया से बात करते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि पतंजलि पूरे विश्व में पहला ऐसा आयुर्वेदिक संस्थान है, जिसने जड़ी-बूटियों के गहन अध्ययन और शोध के बाद कोरोना महामारी की दवाई प्रामाणिकता के साथ बाजार में उतारी है.

अब आयुष मंत्रालय ने पतंजलि को दवा के प्रचार-प्रसार पर रोक लगा दिया है. इसके साथ ही आयुष मंत्रालय ने यह भी कहा है कि यदि इससे बाद दवा का विज्ञापन जारी रहा तो उसके खिलाफ कार्यवाई की जाएगी. इधर आयुष मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि पतंजलि ने ऐसी किसी दवा के विकसित करने और उसके ट्रायल की कोई जानकारी मंत्रालय को नहीं दी है.

स्त्रोतः-https://www.jagran.com/bihar/muzaffarpur-complaint-filed-against-yoga-guru-swami-ramdev-and-acharya-balakrishna-in-bihar-20429848.html

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here