बैंकों के विलय के विरोध में बैंककर्मी हड़ताल पर

0
639

बैंकों के विलय के विरोध में बैंक कर्मचारी मगंलवार को हड़ताल कर रहे हैं. ऑल इंडिया बैंक इम्पलाइज एसोसिएशन और बैंक इम्प्लाइज फेडरेशन ऑफ इंडिया के आह्वान पर 22 अक्टूबर को सरकारी बैंकों के कर्माचारी हड़ताल पर हैं. केंद्र सरकार द्वारा दस बैंकों के विलय के विरोध में कर्मचारियों ने हड़ताल किया है. भारतीय स्टेट बैंक, ग्रामीण बैंक, कोआपरेटिव बैंक और निजी बैंक हड़ताल में शामिल नहीं हैं ये नैतिक समर्थन दे रहे हैं.
सोमवार की शाम को बैंक कर्मचारियों ने इलाहाबाद बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय पर विरोध प्रदर्शन किया. इस हड़ताल में ग्रामीण बैंक, कोऑपरेटिव बैंक और निजी क्षेत्र के बैंक हड़ताल से बाहर हैं.


बिहार प्रोविंशियल बैंक इम्मप्लाइज एसोसिएशन के उप सचिव संजय तिवारी ने कहा कि बैंकों का विलय देश हित में नहीं है. निजी बैंकों का राष्ट्रीयकरण करने और ग्रामीण इलाकों में शाखाओं का विस्तार करने पर सरकार को जोर देना चाहिए. एनपीए की वसूली में तेजी लानी चाहिए. वही बेफी के महासचिव अनुरुद्ध प्रसाद ने कहा कि महत्वपूर्ण बातों को दरकिनार कर सरकार बैंकों का विलय करने में जुटी है. इससे बाध्य होकर हड़ताल पर जाना पड़ रहा है.


बैंक कर्मियों के हड़ताल पर चले जाने से बैंक ग्राहकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. हड़ताल और पर्व की छुट्टी के कारण बैंक लगातार चार दिनों तक बंद रहेंगे. शनिवार 26 अक्टूबर को महीने का चौथा शनिवार है. उसके बाद रविवार है. 28 अक्टूबर सोमवार को गोर्वधन पुजा है 29 अक्टूबर को भाई दूज के दौरान भी कई राज्यों में बैंक बंद रह सकते हैं. बैंकों में विलय के विरोध में ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्डेडरेशन ने कहा था कि हम सरकार के विलय प्रक्रिया के खिलाफ ऑल डंडिया बैंक ऑफिसर्स अन्फेडरेशन ने कहा था कि हम सरकार के विलय के कदमों का विरोध करते है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here