जिसने रचा अपना ही संगीत संसार, आज खुद ही छोड़ गए सारा संसार

0
2979

लता मंगेशकर(Lata Mangeshkar) के गुज़र जाने के बाद आज सुबह सुबह संगीत जगत को एक और करारा झटका लगा, मशहूर संगीतकार और गायक बप्पी लाहिरी(Bappi Lahri) का मुंबई के एक अस्पताल में निधन हो गया बप्पी हमेशा से फिल्मों में अपनी एक अलग आवाज और संगीत के लिए जाने जाते हैं. पीटीआई(PTI) ने डॉक्टर के हवाले से इस खबर की पुष्टि की है। बॉलीवुड को एक से बढ़कर एक गाने दिए हैं। आपको बता दे कि बप्पी(Bappi Lahri) हमेशा से फिल्मों में अपनी एक अलग आवाज और संगीत के लिए जाने जाते हैं। इसके अलावा उनकी पहचान उनके सोने के गहनों से भी होती है। बप्पी लाहिरी(Bappi Lahri) का जन्म कलकत्ता, पश्चिम बंगाल में शास्त्रीय संगीत के धनी परिवार में हुआ था। उनका उपनाम आलोकेश बप्पी लाहिड़ी(Alokesh Bappi Lahri) है । बाबा अपरेश लाहिड़ी बंगाली संगीत के लोकप्रिय गायक थे। मां बंसारी लाहिड़ी भी एक संगीतकार और गायिका थीं, जिन्होंने शास्त्रीय संगीत और श्यामा संगीत में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया । उनके परिवार की इकलौती संतान बप्पी लाहिड़ी है।

उन्होंने तीन साल की उम्र से तबला बजाना शुरू कर दिया था।उन्होंने अपने माता-पिता की निकटता से चाक और संगीत का प्रशिक्षण लिया। फिर 19 साल की उम्र में उन्होंने दादू से बंगाली फिल्म में डेब्यू किया था.

69 साल के बप्पी लहरी(Bappi Lahri) के निधन की खबर किसी शॉक की तरह ही है। बीते दिनों ही संगीत की दुनिया का सबसे खूबसूरत सितारा कही जाने वाली लता मंगेशकर ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया और अब बप्पी लहरी को लेकर आ रही यह खबर इंडस्ट्री के लिए किसी सदमे से कम नहीं है। अभी तक बप्पी लहरी के निधन की वजह सामने नहीं आ पाई है। बप्पी दा के नाम से मशहूर बप्पी लहरी ने म्यूजिक इंडस्ट्री में अपनी धुन और गानों से एक अलग तरह का ही राग छेड़ा था।इतना ही नहीं इस खबर को सुनते ही बप्पी लहरी के फैन्स को गहरा सदमा लगा है और लोग यह जानना चाह रहे हैं कि आखिर उन्हें क्या हुआ था? बता दें कि बीते साल अप्रैल के महीने में बप्पी लहरी कोरोना वायरस की चपेट में आ गए थे। इसके बाद मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। कुछ दिन के इलाज के बाद उनकी रिकवरी हो गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here