मीटिंग में रोई दलित विधायक बेबी कुमारी ; भाजपा ने किया विश्वासघात, मुकेश साहनी पर लगाए बड़े आरोप

0
259

बिहार विधानसभा चुनाव में उतरने के लिए लम्बे समय से इंतजार कर रहे पार्टी के सदस्यों की उम्मीदों पर पानी फिर गया. राजनितिक पार्टियों से टिकट नहीं मिलने के बाद कुछ पार्टी के नेता बागी भी हो गए जिन पर पार्टी की तरफ से कार्रवाई की गई। जदयू ने कुल 19 सदस्यों को पार्टी से बगावत किये जाने पर पार्टी से बहिष्कृत कर दिया है.
वहीँ भाजपा की समर्थक दलित महिला ने भी भाजपा पर आरोप लगाया है. हालाँकि इनकी कहानी कुछ जुदा है। ये विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमाने की कोशिश में टिकट के पहले प्रयास में नहीं थी बल्कि ये खुद निर्दलीय चुनावी मैदान में जीत हासिल कर विधायक हो चुकी है.


पिछले विधानसभा चुनाव में मुजफ्फरपुर के बोचहां सीट से निर्दलीय उम्मीदवार बेबी कुमारी विधायक हई। पांच सैलून तक इस दलित महिला ने भाजपा का समर्थन किया और आज वे फूट फूट कर रोने लगी थी। बेबी कुमारी ने कहा कि भाजपा आखिरी वक्त तक उन्हें धोखे में रख कर उनके राजनितिक जीवन को करारा धक्का दिया और उनके राजनितिक जीवन को नष्ट करने की कोशिश की है. अब वे बोचहां सीट से लोजपा प्रतिद्वंदी के तौर पर चुनावी मैदान में उतरेगी। यानि एक बार फिर पिछले विधानसभा सीट पर जीत दर्ज कर विधायक की कुर्सी पर काबिज करने वाले को लोजपा ने अपने खाते से टिकट दे दिया है.


बेबी कुमारी पिछले साल राजद के दिग्गज रमई राम को शिकस्त दे दी थी और जीतने के बाद भाजपा का समर्थक हो गई थी. भाजपा ने उन्हें प्रदेश कमिटी का उपाध्यक्ष भी बना दिया मगर आखिरी वक्त में उन्हें टिकट नहीं दिया गया. उन्होंने आरोप लगाया है कि भाजपा ने इस सीट को अपने सहयोगी पार्टी वीआईपी को दे दिया है और उन्हें यह कहा गया कि वीआईपी से टिकट दिलाया जायेगा लेकिन मामला लटकाने के बाद पार्टी ने दूसरे को टिकट दे दिया। विधायक का कहना है कि मुकेश साहनी ने 3 करोड़ रुपया लेकर सीट बेच दिया। उनका कहना है कि उनसे भी पैसा माँगा गया था लेकिन वे पैसा नहीं दे सकी और फिर मुखेष साहनी ने उनसे कहा कि उनकी जाति का कोई वोट नहीं है और मुसाफिर पासवान को टिकट दे दिया गया। आज प्रेस कॉन्फ्रेंस में लोजपा संसद वीणा देवी ने उन्हें अपने पार्टी का उम्मीदवार बनाये का एलान किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here