बेस्ट फ्रेंड जब बनता है लाइफ पार्टनर…

0
113

लगभग हर लोगों का एक बेस्ट फ्रेंड होता है, है ना ! जिससे वो अपनी सारी बातें करता है , वो सारी बातें जिसे वो किसी से नहीं कर सकता क्यूँकि जिंदगी में अपने जीवन से जुड़ी बहुत सारी बातें होती हैं जिसे आदमी शेयर करना चाहता है, सजेशन चाहता है और बातें करने पर एक ख़ुशी मिलती है या मायुश बात शेयर करके हिम्मत और साथ। यह बात तो लाजिमी है हर कोई एक बेस्ट फ्रेंड चाहता है और जिसके पास है वो खुद को लकी मानता हो. ये दोस्त एक लड़का भी हो सकता है। जिसके साथ आपका बेस्ट फ्रेंड की तरह बहुत ही मजबूत रिलेशनशिप हो। वो कहते हैं एक वक्त पर प्यार खो सकता है मगर दोस्त के लिए वक्त के साथ प्यार बढ़ जाता है और कभी-कभी तो यह प्यार काफी गहरा हो जाता है। जिसे लोग रिश्ते में तब्दील करना चाहने लगते हैं. यह रिश्ता वाकई खूबसूरतों में खूबसूरत होता है !

हर आदमी को नए आदमी के साथ घुलने में वक्त लग जाता है। उससे पूरी तरह परिचित होने में और उनके बहुत सारे छुपे विचार जानने में, और विवाह में अधिकतर इन बातों का नजरअंदाज कर दिया जाता है। लेकिन बाद में यह मतभेद और समझौते की जंजीर बन जाती है.

तो हम बात कर रहे हैं उनलोगों की जो अपने ही बेस्ट फ्रेंड से शादी कर लेते हैं, उनके बहुत सारे फायदे होते हैं।

** सबसे महत्वपूर्ण बात– वे दोनों एक दूसरे को अच्छे से जानते हैं तो ऐसे में उन्हें किसी भी तरह का दिखावा नहीं करना पड़ता है, वे उसे बदलना नहीं चाहते, उसे उसी रूप में स्वीकार करते हैं जो वे हैं .

** वे एक दूसरे के हर चीज से वाकिफ होते हैं, बिना कुछ कहे ही वे सारी परिस्तिथि और सारी बातों को अच्छे से समझ जाते हैं, इससे उन्हें काफी फायदा मिलता है। अच्छी अंडरस्टैंडिंग की वजह से उनका रिश्ते ज्यादा मजबूत और अनोखे होते हैं.

** कभी- कभी जिंदगी में ऐसी बात हो जिससे वो एक दूसरे पर से विश्वास खोने लगे तो ऐसा कभी नहीं होता क्यूँकि वे एक दूसरे की बाहरी व्यक्तित्व को ही केवल नहीं जानते बल्कि एक दूसरे के आंतरिकता में डूबे होते हैं , इसलिए चाहे कुछ हो जाये उनका विश्वास कायम रहता है और रिश्ता पर कभी भी कोई आंच नहीं आता है।

** ऐसे रिश्ते बहुत सारी जगहों पर कम्फ़र्टेबल होते हैं, बेस्ट फ्रेंड का कई नार्मल फ्रेंड भी होता है तो उनके बीच भी अच्छी बन जाती है , जहाँ शक होने की सम्भावना है उसके बजाय उन्हें वहाँ एक -दूसरे के नार्मल दोस्तों का साथ और सहयोग मिलता है, सामाजिकता की एक कड़ी मजबूत होती है।

** लोग विवाह तो करते हैं, पूर्णतः एक दूसरे के होते हैं लेकिन कभी भी वो हर तरीके की बात या यूँ कहे, अपनी जिंदगी की बहुत सारी बातों को सामने वाले से छुपा लेते हैं और छुपाते रहते हैं, खासकर अपने परिवार वालों की बात या अपना पास्ट। बहुत बार वे अकेले ही किसी मुश्किल को किनारा लगते हैं। ऐसी स्तिथि बेस्ट फ्रेंड के बीच कभी नहीं होती, वो खुलकर बाते करते हैं। उनके बीच यह बात नहीं होती की सामने वाला इस बात को जानने के बाद क्या रिएक्ट करेगा बल्कि उसे यह तसल्ली होती है कि कोई तो है उसे समझने वाला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here