आखिर क्या है ये प्यार या धोखा

0
339

भारत में विवाह होता है और प्रेमसंबंद्ध भी होते हैं. प्रेमसंबंद्ध या विवाह के दरम्यान ही किसी अन्य व्यक्ति के साथ पुनः प्रेम सम्बन्ध स्थापित करने की क्रिया को बेवफाई माना जाता है। भारत में सबसे मुख्य बात है की सबके लिए बेवफाई की परिभाषा अलगअलग होती है। ऐसी स्थिति में आवश्यकता है अपने साथी के साथ मिलकर खुले तौर पर बातचीत करने की। चूँकि आप जब जिंदगी में किसी को अपना पार्टनर बना रहे होते हैं तब उनके साथ अपनी जिंदगी का लगभग हर भाग जीतें हैं ऐसे में उनके साथ कोई भी बात जो गुप्त रखनी चाहिए, नहीं जँचता है। हाल ही के शोध में एक बात सामने आयी है कि 46.1 प्रतिशत लोग धोखा देते हैं और उनमें हर चार में से केवल एक इस बात को अपनी साथी के साथ शेयर करते हैं, हालाँकि इसे स्वीकार पाना उतना आसान नहीं होता। सर्वे के मुताबिक 54.5 प्रतिशत रिश्ते बेवफाई जानने के बाद समाप्त हो गए, 30 प्रतिशत लोग अपने रिश्ते को बचाने की कोशिश कीं और 15.6 प्रतिशत इसके बावजूद भी साथ रहे। 56 फीसदी पुरुष और 34 फीसदी महिलाएं अफेयर से जुड़े होते हैं।

प्यार किया नहीं जाता, हो जाता है. ऐसे में किसी और से होने की भी सम्भावना बनती है, ठीक ऐसा ही होता है। विवाह भी कुछ इसी प्रकार होता है चाहे बहुतसारे पसंद और विचार मेल खाएं या नहीं। लेकिन जब बात जिंदगी में साथ निभाने की होती है तो इंसान उधर झुक जाता है जिधर उसकी रुझान जाती है या दूसरों शब्दों में अपने सम्बन्ध से नाखुश को नए सम्बन्ध में दिलचस्पी होती है. हालाँकि कुछ लोंगो को आकर्षित होते रहने की मानसिक बीमारी भी होती है। केवल फिजिकल रूप से संपर्क में आना ही धोखा की निशानी नहीं है बल्कि मानसिक और भावनात्मक रूप से विशेष रूप से जुड़ने को भी धोखा ही मानेंगे, जैसे देर रात तक किसी से बातें करना, चैटिंग करना, ऑफ़िस में किसी का इंतजार करना और उसके साथ डेट करना या लंच शेयर करना। क्युँकि आप उसके साथ जिंदगी के ख़ुशी का एक बड़ा हिस्सा बाँट रहे हैं साथही जिसे आप अपने साथी से छुपा रहे हैं, धीरेधीरे यही बात अफेयर में तब्दील हो जाती हैं और पूर्णतः उसे एक नए साथी के रूप में देखा जाने लगता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here