बिहार ने चीन को दिया बड़ा झटका, नीतीश सरकार ने छीन लिया चीनी कंपनियों का ये प्रोजेक्ट

0
569

भारत-चीन सीमा पर हुए हिंसक झड़क के बीच में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे. जिसमें से पांच जवान बिहार के रहने वाले थे. अब बिहार सरकार ने चीन के खिलाफ बड़ा कदम उठाते हुए नीतीश सरकार ने चीन को झटका देते हुए रविवार को पटना में गंगा नदी पर महात्मा गांधी सेतु के बगल में बनने जा रहे नए पुल का टेंडर रद्द कर दिया है. इधर सड़क निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव ने कहा है कि प्रॉजेक्ट के लिए चुने गए चार कॉन्ट्रै्क्टर में से दो के पार्टनर चाइनीज थे.

बिहार के पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए बताया कि, ”महात्मा गांधी सेतु के बगल में बनने जा रहे नए पुल के लिए चुने गए 4 कॉन्ट्रैक्टर्स में से दो के पार्टनर चाइनीज थे. हमने उन्हें पार्टनर बदलने को कहा, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. इसलिए हमने टेंटर को रद कर दिया है. हमने दोबारा आवेदन मंगवाए हैं.’

आपको बता दें कि बिहार में जिन प्रॉजेक्ट पर काम हो रहे थे उसमें चाइना हार्बर इंजीनियरिंग कंपनी और शानशी रोड ब्रिज ग्रुप कंपनी का चुना जाना है. आपको बता दें इन कंपनियों को यह प्रोजेक्ट पिछले साल दिसंबर केंद्र सरकार के आर्थिक मामलों की केबिनेट कमिटि ने मंजूरी दी थी. जिसकी अगुआई पीएम मोदी ने कि थी. आपको बता दें कि इन कंपनियों द्वारा गंगा नदी पर 14.500 किलोमीटर लंबे प्रॉजेक्ट पर काम करना था. जो गंगा नदी और एनएज 19 पर चार लेन के मौजूदा महात्मा गांधी सेतु के साथ-साथ बनेगा. इसमें चार अंडरपास, एक रेल ओवर ब्रिज, 1580 मीटर लंबा एक पुल, चार छोटे पुल, पांच बस शेल्टर और 13 रोड चौराहे बनने हैं। पर 29.26 अरब रुपए खर्च होने का अनुमान है और प्रॉजेक्ट 3.5 साल में पूरा होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here