यह बिहारी “बेबीगर्ल” बनी एक दिन के लिए कनाडा की हाई कमिश्नर!

0
1277

बिहार है भारत की आन, बान, शान और पहचान और यह हमारे मिट्टी के लाल हमेशा साबित करते रहते है. बिहारी न्यूज़ भी आपको हमेशा इन बिहारी पहचान से रूबरू करवाते रहता है और आज इसी कड़ी में हम बात करेंगे एक बिहार की बेटी के बारे में जिसने अपने मिट्टी का नाम विदेश में रौशन किया.

जी हाँ दोस्तों जमुई जिले की रहने वाली है यह बिहारी बेटी जिनका नाम है बेबी. बेबी को “इंटरनेशनल गर्ल चाइल्ड डे” (11 October, 2018) के मौके पर कनाडा का हाई कमिश्नर बनाया गया जो ठीक वैसा ही लगता है जैसे फिल्म “नायक” में अनिल कपूर को एक दिन के लिए प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया जाता है.

बेबी का पूरा नाम है बेबी कुमारी जिनकी आयु 21 वर्ष है और बेबी ने ऐसा कभी सोचा ही नहीं था की उनके ज़िन्दगी में एक दिन ऐसा भी आएगा. बेबी ने अपना अनुभव शेयर करते हुए कहा की उस एक दिन ने उन्हें काफी कुछ सीखा दिया और उन्होंने यह कहा की खुद को दूसरों के सामने कैसे पेश करना है इस चीज़ को अब वो जान चुकी हैं.

बेबी का परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा है और खुद बेबी की माने तो उनकी शादी उस वक़्त ही करवाई जा रही थी जब वो 17 वर्ष की थी जिसपे उन्होंने खुद रोक लगाया. बेबी कहती है की बालिकाओं को सशक्त करना बेहद आवश्यक है और वह जागरूकता और उसके साथ-साथ अच्छी शिक्षा से ही हो पायेगा।

बेबी अभी बी ए पार्ट-1 की छात्रा है जिनका कद तो साढ़े चार फ़ीट है लेकिन हौसला ऐसा जैसे आसमान को छू रहा है. बेबी को एक समुदाय ने भागलपुर में अपना नेता भी चुना हुआ है और यह सब वर्ष 2016 में हुआ था. बेबी हाल ही में गुरुग्राम के एक स्कूल गयी थी जहां उन्होंने शिक्षा और बालिकाओं की स्थिति पे चर्चा की थी.

बेबी आजकल हो रहे गुजरात हिंसा पे भी अपना पक्ष रखती है और इस पूरे घटनाक्रम को बेहद दुखद बताती हैं. बेबी ने इस काम उम्र में ही इतनी जानकारियां और अनुभवों को हासिल कर रखा है की वो समाज को झकझोर देने वाले मुद्दे पे भी चर्चा करती हैं.

तो दोस्तों यह थी बिहार की बेटी बेबी कुमारी जिसने अपने देश के झंडे को विदेश में लहरा दिया और बन गयी एक बिहारी पहचान। तो उम्मीद है आपको बेबी कुमारी की यह छोटी सी कहानी बेहद अच्छी लगी होगी और अगर अच्छी लगी हो तो बिहारी न्यूज़ को अपने दोस्तों के बीच शेयर करना न भूले क्यूंकि हम है जो रखते है हर खबर पर पैनी नज़र.

अभी बिहारी न्यूज़ ने भी अपने “Gyanpedia” शो के दौरान गुजरात हिंसा और बिहारियों की स्थिति को इतिहास, वर्तमान और भविस्य के चश्मे से परिभाषित किया था जिसको आप नीचे देख सकते हैं.

क्यों हम बिहारी है पिछड़े हुए,हम बिहारियों की परिभाषा और दूसरे राज्यों की नजर मे हमारा बिहार

Bihari News ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಗುರುವಾರ, ಅಕ್ಟೋಬರ್ 11, 2018

  • 23
  •  
  •  
  •  
  •  
    23
    Shares
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here