बिहारी आईएएस केशवेंद्र कुमार ने निकाली मंत्रियों और बिल्डरों की हवा …..

0
1120

जब एक बिहारी अपनी पे आ जाये तो अच्छो -अच्छो की खटिया खड़ी कर देता है। इसका जीता जगता उदाहरण बिहार के आईएएस केशवेंद्र कुमार है।आईएएस केशवेंद्र कुमार बिहार के सीतामढ़ी के रहने वाले है जो कि अभी केरल के वायनाड जिले में कलेक्टर है। आईएएस केशवेंद्र कुमार ने मंत्रियों और बिल्डरों पर ऐसा शिकंजा कसा की सबकी हेकड़ी निकल गयी।

दरअसल बात ये है कि , वायनाड जिला पहाड़ पर बसा हुआ है और यह सदाबहार वनों से लैस है।जब बिल्डरों की नजर वायनाड की खूबसूरत वादियों पर पड़ी तो यहाँ के पहाड़ मिटने लगे और होटल -रिसॉर्ट बनने लगे। होटल -रिसॉर्ट के निर्माण के कारण हरे-भरे पेड़ों की कटाई तेजी हो होने लगी। जिस वजह से वायनाड के पहाड़ मिटने लगे। कंक्रीट की बड़ी-बड़ी इमारतें वायनाड की ख़ूबसूरती और पर्यावरण दोनों को नुकसान पंहुचा रहे थे।

केशवेंद्र ने जब ये बात महसूस की तब उन्होंने पहाड़ों को मिटने से बचाने के लिए सख्त फैसला लिया। कई मंत्रियों ने उनपर दबाव बनाने की कोशिश की पर मंत्रियों के दबाव को दरकिनार कर सख्त फैसला लेकर जून में की पहल की। उन्होंने भ्रष्ट मंत्रियों व बिल्डर गठजोड़ को भी तहस-नहस कर दिया। रोचक बात यह रही कि जब भ्रष्ट मंत्रियों व बिल्डर गठजोड़ के दबाव में पिछले साल यूडीएफ सरकार ने डीएम के फैसले को पलट दिया तो हाई कोर्ट ने सरकार को फटकार लगते हुए डीएम के पक्ष में फैसला दिया।

आईएएस केशवेंद्र ने पहाड़ों को बचाने के लिए अवैध निर्माण पर नकेल कस्ते हुए हर निर्माण की ऊंचाई-लंबाई तय करने की पहल को विशेषज्ञों ने वयना़ मॉडल की संज्ञा दी है।

  • 100
  •  
  •  
  •  
  •  
    100
    Shares
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here