बिहार के विपुल को मिला IPL में बड़ा ब्रेक, जानें कौन है यह युवा गेंदबाज

0
2665

बिहार में प्रतिभा की कोई कमी नहीं. भले ही विकास के मामले में राज्य का ग्राफ थोड़ा नीचे है मगर यहां के युवा अपनी प्रतिभा से किस्मत को चमकाने का हौसला रखते हैं. पढ़ाई लिखाई कर सरकारी ओहदे पाने में बिहार फेमस है ही, तो दूसरी तरफ जब यहां क्रिएटिव जॉब या फिर खेल कूद में अपना नाम बनाने की बात हो, यहां के युवा निराश नहीं करते हैं. खासकर जब खेल की बात आती है तो यहां सुविधाओं की कुछ कमी झेलनी पड़ती है. मगर होनहार बिरवान लोग खामियां नहीं ढूंढते, वे बस लक्ष्य बांधते हैं और उसपर काम करने लगते हैं. ऐसा ही वाक़या क्रिकेट के साथ होता है. बिहार में क्रिकेट स्कोप की कमी के बीच भी कई players national टीम को represent कर रहे हैं. और इसमे एक बड़ा हाथ क्रिकेट के सबसे बड़े लीग IPL का माना जा सकता है. क्यूँकी आईपीएल ने शुरुआत से ही प्रतिभाओं को उभरने का मौका दिया. बिहार के ही ईशान किशन ने आईपीएल में अपने लाजवाब प्रदर्शन के बाद नैशनल टीम मे जगह पायी और अब इस राह में एक और बिहारी का नाम जुड़ सकता है. जी हां. आईपीएल के 2022 संस्करण में एक बड़ी फ्रेंचाइजी की तरफ से बिहार के एक और लाल को खेलते हुए देखा जा सकता है.

 

और इस उभरती प्रतिभा का नाम है विपुल कृष्ण ठाकुर. बिहार के सीतामढ़ी जिले के एक छोटे से गांव से निकले विपुल को IPL में बड़ा ब्रेक मिला है. विपुल बाएं हाथ के माध्यम गति की गेंदबाजी करते हैं. आपको बता दें कि विपुल मूल रूप से सीतामढ़ी के रीगा प्रखंड क्षेत्र के पंछोर गांव के रहने वाले हैं. और इस छोटे से जगह से निकलकर आईपीएल जैसे बड़े मंच पर नजर आएंगे. आपको बता दें कि विपुल को लीग की सबसे ज्यादा बार चैम्पियन रही टीम मुंबई इंडियंस की तरफ से चयन प्रक्रिया के लिए बुलाया गया था जिसमें वह सफल रहें. तो आइये आपको बिहार के इस युवा खिलाडी के इस सफर की कहानी विस्तार से बताते हैं.

 

 

बिहार के युवा क्रिकेटर विपुल का पालन पोषण सीतामढ़ी में ही हुआ. उनकी प्रारंभिक पढ़ाई जिले के ही संत जोसफ स्कूल से हुई. बाद मे 2008 मे उनका एडमिशन लखनऊ के सीएमएस स्कूल मे हुआ. हालांकि स्कूल के दिनों से ही उनका मन पढ़ाई से ज्यादा क्रिकेट में लगता था. इसलिए वह उस दौरान भी प्रैक्टिस करते और जिला स्तर पर खेल में भी शामिल हुए. आपको बता दें कि विपुल की पढ़ाई अब भी चल रही है. वह बी कॉम honours की पढ़ाई कर रहे हैं साथ ही वो स्टेट लेबल पर भी खेल चुके हैं.

बताते चलें कि उनके पिता राकेश कुमार किसान हैं, मगर खेल का जुनून विपुल को अपने दादा लाल बहादुर ठाकुर से जागा जो कि खुद जिला स्तरीय football player रह चुके हैं. आज विपुल के दादा इस बात से खुश हैं कि उनका पोता जिला से निकलकर और ऊंचाईयों को छूने वाला है.

 

बाएं हाथ के मीडियम गति के गेंदबाज विपुल को 15 दिसम्बर 2021 को मुंबई इंडियन की तरफ से ट्रायल देने के लिए बुलाया गया था. जिसे लेकर वह पहले ही नवी मुंबई के लिए निकल गए थे. वहाँ RCP मैदान में मुंबई इंडियंस के लिए उनका सेलेक्शन ट्रायल हुआ जिसके बाद अपने प्रदर्शन की बदौलत विपुल को ट्रायल में कामयाबी मिली. इस सफलता पर विपुल कृष्ण ठाकुर ने कहा कि जल्द ही वह मुंबई इंडियंस फ्रेंचाइजी के लिए खेलते हुए नजर आएंगे. वहीँ इसका श्रेय उन्होंने गुरूजनों और माता पिता को दिया है.

वहीँ इस सफलता की खबर सुनते ही सीतामढ़ी में जश्न का माहौल बन उठा. वहाँ उनके घर पर न सिर्फ रिश्तेदारों बल्कि स्थानीय विधायक, सांसद और जिला क्रिकेट संघ की तरफ से भी खुशी जतायी गई. बताते चलें कि हाल के वर्षों में बिहार के युवाओं में क्रिकेटर बनने का जुनून काफी बढ़ा है. खासकर के आईपीएल जैसे मंच पर अपना प्रदर्शन दिखाने के लिए युवा क्रिकेट में स्टेट लेवल पर खेलना शुरू किए हैं. ईशान किशन के बाद अब विपुल को आईपीएल में मौका मिला ऐसे में वह ये मौका हाथ से जाने नहीं देना चाहेंगे. आगे अब इंतजार रहेगा बाएं हाथ से गेंदबाजी करने वाले विपुल के पहले आईपीएल मैच का.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here