नई राजनीति : केंद्र में भारतीय जनता और बिहार में राष्ट्रीय जनता

बिहार में एक नई राजनीतिक सोच ने जन्म ले लिया है. बीच के कुछ महीनों को छोड़ दें तो बिहार में पिछले 15 सालों से जनता दल यूनाइटेड और भारतीय जनता पार्टी की सरकार चल रही है. कोरोना काल में अस्पतालों की दुर्दशा और चुनाव से ठीक पहले प्रलयंकारी बाढ़ ने नीतीश कुमार की हवा को और भी बिगाड़ने का ही काम किया है.

Bihar by-polls: RJD leads in Araria, Jahanabad, BJP in Bhabhua

15 सालों से शासन में होने की वजह से नीतीश कुमार के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर भी तेज है. नीतीश कुमार को अब भी भाजपा के गठबंधन और अपनी सोशल इंजीनियरिंग का सहारा है. उन्हें लगता है कि 2020 में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव में भी उनकी नैया पार लग जाएगी लेकिन बिहार की राजनीति में एक नई सोच ने जन्म ले लिया है. सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक युवाओं की एक नई पीढ़ी तैयार हो गई है जो कह रहा है कि केंद्र में भारतीय जनता और बिहार में राष्ट्रीय जनता.

तेजस्वी ने PM मोदी को दी बर्थडे की ...

केंद्र में मोदी और बिहार में तेजस्वी

केंद्र में भारतीय जनता और बिहार में राष्ट्रीय जनता का अर्थ हुआ कि नई पीढ़ी के ये वोटर चाहते हैं कि केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनीं रहे लेकिन बिहार में अब राष्ट्रीय जनता दल की सरकार चाहिए. ऐसा नहीं है कि ये लोग राजद के समर्थक हैं पर नीतीश कुमार को शासन से हटाने के विकल्प के तौर पर राजद ही सामने नजर आ रही है, इसलिए वो अगली सरकार के लिए राष्ट्रीय जनता दल का समर्थन करने के इच्छुक नजर आ रहे हैं यानी कि केंद्र में नरेंद्र मोदी तो बिहार में तेजस्वी यादव.

pm modi litti tejashwi yadav: PM Narendra Modi took a taste of ...

मोदी से बैर नहीं, नीतीश की खैर नहीं

इस तरह की सोच रखने वाले मतदाता कांग्रेस के विरोधी तो हैं ही साथ ही साथ जदयू के भी विरोधी हैं. सोशल मीडिया पर ऐसे लोगों के कमेंट्स तो देखें तो इनकी सोच साफ है कि नरेंद्र मोदी से बैर नहीं और नीतीश कुमार की खैर नहीं.

PM Narendra Modi greets Bihar CM Nitish Kumar on his birthday ...

केंद्र में भारतीय जनता और बिहार में राष्ट्रीय जनता की सोच रखने वाले सिर्फ सोशल मीडिया तक ही सीमित नहीं है बल्कि ऐसे लोग गांव की चौपालों से लेकर शहरों में चाय दूकानों तक मिल जाएंगे. अगर ऐसी मानसिकता रखने वालों की संख्या बढ़ती गई तो निश्चित तौर पर ये नीतीश कुमार के लिए खतरे की घंटी की तरह होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here