राज्यसभा चुनाव: भाजपा में किसका टिकट कटेगा, किसको टिकट मिलेगा

0
724

राज्यसभा के चुनाव सिर पर हैं. 26 मार्च को मतदान होना है. भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री डाॅ सीपी ठाकुर समेत वरिष्ठ नेता आरके सिन्हा, जनता दल यूनाइटेड के हरिवंश, रामनाथ ठाकुर और कहकशां परवीन का कार्यकाल भी समाप्त हो रहा है.

एनडीए के समक्ष इस बार बड़ा संकट खड़ा हो गया है. किसे राज्यसभा भेजा जाए और किसे राज्यसभा जाने से रोका जाए. अब विधानसभा के गणित को देखा जाए तो एनडीए को नुकसान और महागठबंधन को होना तय है. कुल 05 सीटों पर चुनाव होना है. 03 सीटें एनडीए को मिल सकती है और 02 सीटें महागठबंधन के खाते में जा सकती है.

भाजपा की परेशानी यह है कि रिटायर होने वाले उसके दोनों सदस्य दिग्गज नेताओं में शामिल हैं. आरके सिन्हा पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जमाने से जनसंघ और फिर भाजपा में बने हुए हैं. पिछले 54 साल से पार्टी के नेतृत्व में आस्था और विश्वास के साथ जुड़े हुए हैं. बिहार के कायस्थ समाज में उनका अच्छा खासा असर माना जाता है. आरके सिन्हा दर्जन भर कायस्थ संगठनों के संरक्षक है. चुनावी साल के लिहाज से भी आरके सिन्हा का टिकट कटना अच्छा संदेश नहीं देगा.

भाजपा के एक और दूसरे सांसद हैं डाॅ सीपी ठाकुर. पुराने नेता हैं. कई बार लोकसभा का चुनाव भी जीत चुके हैं. अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं. बिहार प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. भूमिहार समाज से आते हैं. राजनीति की शुरुआत इन्होंने कांग्रेस से की थी लेकिन आज भी भूमिहार समाज में खासे लोकप्रिय हैं.


डाॅ सीपी ठाकुर के टिकट कटने का सिर्फ एक ही आधार हो सकता है, उम्र लेकिन एक बात जानना बेहद महत्वपूर्ण है कि सीपी ठाकुर के समर्थक बेहद संवेदनशील माने जाते हैं. जब समाज की बात आती है तो विरोध प्रदर्शन और मुर्दाबाद जिंदाबाद से पीछे नहीं हटते हैं. इन दोनों की अनदेखी भाजपा को मुश्किल में डाल सकती है.

अब आखिरी फैसला तो भाजपा नेतृत्व को ही करना है कि वो किसे राज्यसभा भेजती है या किसका टिकट काटती है. कयास तो यह भी लगाए जा रहे हैं कि इस बार भाजपा किसी नए चेहरे को मौका दे सकती है क्योंकि ये दोनों नेता बुजुर्ग हो चुके हैं. वैसे समीकरण के हिसाब से यह तय है कि दोनों में से किसी न किसी एक का टिकट तो कटना ही है क्योंकि इस बार भाजपा को सिर्फ एक ही सीट मिल पाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here