BJP के प्रदेश अध्यक्ष ने अपने ही सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा

0
327

बिहार में सुशासन की बात कहने वाले नीतीश सरकार के खिलाफ उनके ही साथी बीजेपी ने मोर्चा खोल दिया है. विपक्ष तो पहले से ही कानून व्यवस्था को लेकर सरकार पर सवाल खड़ा करती रही है. लेकिन सत्ता के साझीदार बीजेपी ने भी प्रदेश में कानून व्यवस्था पर सवाल खड़ा कर दिया है. सबसे खास बात तो यह है कि बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जयसवाल ने अपनी ये नाराजगी सोशल मीडिया पर जाहिर की है. डॉ. संजय जायसवाल ने अपने फेसबुक पर जिन शब्दों का इस्तेमाल किया है उससे तो यही लगता है कि संजय जयसवाल अपनी ही सरकार को कोस रहे हैं.

डॉ संजय जायसवाल ने अपने फेसबुक वॉल पर लिखा है कि सुबह बेतिया से पटना की ओर चला हूं. रास्ते में सेमरा में जनता ने सड़क जाम किया था. उनसे मिलने पर पता चला कि सेमरा में आए दिन चोरी हो रही है और आज जब गांव वालों ने चोर को पकड़ने का प्रयास किया तो वह मोटरसाइकिल छोड़कर भागने में सफल हुआ. तुरकौलिया थाना प्रभारी को फोन किया गया तो उल्टे में वह गांव वालों को धमकाने लगा कि हम आएंगे तो तुम ही लोगों को गिरफ्तार करेंगे.

संजय जायसवाल ने आगे लिखा है कि पूर्वी चंपारण के थानों में बहुत अव्यवस्था हो गई है. रक्सौल से लेकर मोतिहारी तक लगातार अपराध की घटनाएं हो रही हैं और मोतिहारी पुलिस प्रशासन अपराधियों को पकड़ने में अक्षम सिद्ध हो रहा है. रक्सौल हत्याकांड के बारे में भी मैंने बात की थी पर नतीजा अभी तक नहीं निकला. मैं आज स्वयं डीजीपी से मिलकर पूर्वी चंपारण जिले के कानून व्यवस्था के बारे में बात करूंगा.

इस पूरे मामले को लेकर कांग्रेस ने बीजेपी और नीतीश सरकार पर जोरदार हमला बोला है. कांग्रेस प्रवक्ता प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा कि बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के द्वारा अपनी ही सरकार के ध्वस्त हो चुके कानून व्यवस्था पर सवाल खड़ा करना अपने आप में पाखंड है. उन्होंने कहा कि आज नीतीश कुमार की कार्यशैली और उनकी लचर कानून व्यवस्था को लेकर सहयोगी दल सवाल उठा रहे हैं. लेकिन जो अपने इशारों पर जेडीयू को नचा रही है, वह अगर अपनी फेसबुक पर लिखते हैं कि बिहार में कानून व्यवस्था खत्म हो गई है, बिहार में कानून का राज खत्म हो गया है, डीजीपी से मिलेंगे, तो वह डीजीपी से क्यों मिलेंगे. उनके अपने दोदो डिप्टी सीएम हैं, आप सीएम नीतीश कुमार से मिलिए.

इधर राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि दरअसल बीजेपी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर दबाव बनाना चाहती है क्योंकि गृह विभाग नीतीश कुमार के पास है. इसलिए संजय जायसवाल ने सोचीसमझी रणनीति के तहत ही यह बात कही है कि बिहार में आपराधिक घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है. इसका जवाब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को स्वयं ही देना चाहिए.

इधर बीजेपी प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि डॉक्टर संजय जयसवाल बेतिया से पटना आ रहे ते सड़क जाम में फंसे वहां लोगों से बात करने पर पता चला की चोरी की घटनाएं हो रही है. प्रशासन के लोग कार्रवाई नहीं करते हैं. सूचना देने वालों को ही धमकाने का काम करते हैं. प्रेम रंजन पटने ने आगे कहा कि संजय जायसवाल ने चिंता प्रकट की है. उन्होंने कहा कि सरकार की नीति है कि अपराधियों और अपराध के खिलाफ जिरो टॉलरेंस. खुद संजय जयसवाल डीजीपी से मिकर इन बातों को रखने का काम करेंगे.

ऐसे में बिहार की सियासत तेज हो गई है. बीजेपी द्वारा बिहार में कानून व्यवस्था पर सवाल उठाने के बाद से विपक्ष कह रही है कि बीजेपी नीतीश सरकार पर दवाब बना रही है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here