ब्रेकअप के होते हैं क्या गजब के फायदे

0
389

भावना, एहसास , सेंटीमेंट एक ऐसे शब्द हैं जिनसे हम ऊपर नहीं उठ सकते हैं लेकिन इन शब्दों का महत्त्व समझना, उसे उचित जगह पर लगाना और खुद को संतुलित रखना अपने आप में एक कला है। बेशक भारतीय संस्कृति में हर रिश्ते का महत्व होता है बावजूद धोखा देने के नाम पर कोई भी रिश्ता पाक-शाक नहीं रह गया है. बच्चे जब जन्म लेते हैं और बड़े होते जाते हैं, कुछ समझे न समझे; कोई तर्क हो या न हो लेकिन एक ऐसी बात होती है जिसे बस एहसास किया जाता है। इंसान कमजोर अगर कहीं पड़ता है, अगर वह टूटता है तो वह है अपने भावना के सामने। बेशक ये प्यार, नफ़रत , गुस्सा, लालच कुछ भी हो सकता है। बहुत ही कम सम्भावना है जिसे धोखा किसी से भी न मिला हो. जिंदगी के लम्बे सफर में धोखा तो जरूर ही मिलता है, लेकिन बुद्धिमानी तब होती है जब आपका नुकसान कुछ नहीं होता या नगण्य होता है.

किशोरावस्था से लेकर युवावस्था का उम्र एक ऐसा पड़ाव होता है जहाँ लगभग-लगभग सबको प्यार होता है लेकिन एक-दूसरे के साथ जीने का एहसास कुछ को ही मिलता है, ब्रेकअप ज्यादा हो जाते हैं. दूसरे नजरिये से जरुरी नहीं की आपका ब्रेकअप पार्टनर से ही हो लेकिन वह हो सकता है जिसे आप बहुत चाहते हो, उसपर भरोसा करते हो. ब्रेकअप से एक रिश्ता तो ख़त्म जरूर होता है लेकिन जिंदगी का मतलबम और उसके उसूल समझ आ जाते हैं।

ब्रेकअप के फायदे ———
1.जब आप इस दौर से गुजर रहे होते हैं, उस वक्त जरूर कमजोर पड़ते हैं लेकिन उससे उबड़ने के बाद आपमें जो मजबूती आती है वो फिर कभी भी भावनात्मक रूप से आपको न तो कमजोर पड़ने देती है और न ही भावुकता में कोई निर्णय लेने देती है। दूसरे शब्दों में आपमें मैच्युरिटी आती है। आप एक मजबूत इंसान के रूप में उभरते हैं.

2.दूसरों पर निर्भरत घटती है, आप अपनी जिंदगी जीते हैं, अपने खूबियों के साथ आप आगे बढ़ते हैं, फिर किसी के लिए आपको अपनी कैरियर और जिंदगी के साथ समझौता नहीं करना पड़ता। विपरीत स्तिथितियों से मुकाबला करने के लिए आप मजबूत हो चुके होते हैं. स्वतंत्र रूप से आप अपने कैरियर में आगे बढ़ सकते हैं।

3.ब्रेकअप के बाद जिंदगी को देखने का नजरिया बदल जाता है। आप जल्द ही किसी पर भरोसा नहीं करते हैं। चीजों के बेहतरीन तरह से संभाल पाते हैं. और संतुलन बैठाने जान पाते हैं।

4.जब आपका ब्रेकअप होता है तो आपको अपनी कमियाँ भी दिखती हैं, आत्मविश्वास भी बढ़ता है। आत्मविश्वास बढ़ने के बाद आप किसी निर्णय पर पहुँचने के लिए किसी और पर निर्भर नहीं होते। आप अपना निर्णय हर हाल में खुद ही लेते हैं। आपकी जिंदगी के घड़ी के सुई को आप घुमाते हैं, दूसरा नहीं।

5.प्रायः यह देखा जाता है कि प्रेमी जोड़ा ज्यादा वक्त एक दूसरे को देते हैं जिससे दूसरे चीजों के लिए वक्त कम जाता है. ऐसे में आप ब्रेकअप के बाद समय का प्रबंधन सीखते है।

6.भावनात्मक रूप से मजबूत होने के लिए भवनात्मक धक्का भी सहन करना पड़ता है, लेकिन, बाद इसके; आपको कोई भी विपरीत परिस्थिति टूटने नहीं देती। रिश्ते के दरम्यान आपका गजल, शायरी, गाना से इमोशन जुड़ा होता है लेकिन ब्रेकअप के बाद आप उन्ही चीजों से मनोरंजन करते है, ना की उनके साथ आपके जज्बात जुड़े होते है। ऐसे लोंगो के साथ आप मुस्कुराने तो सीख जाते हैं लेकिन दूर-दूर तक उसमें कोई इमोशन नहीं होती जो आपको कमजोर कर दे। भावनात्मक झटका के बाद आप बेहद मजबूत हो जाते हैं, नए रिश्ते की शुरुआत बुद्धिमानी से करते हैं और नए नजरिये से आगे बढ़ते हैं. फिर आपके पास मुकाम भी होता है और प्यार भी !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here