मेडिकल उपकरण बनाने वाली कंपनी का दावा, केंद्र सरकार ने इन चीजों में देरी कर दी

0
583

भारत समेत विश्व में कोरोना वायरस अपना पांव पसार रहा है. देश में डॉक्टर और नर्स सदैव इस महामारी से सेवा के लिए तत्पर है. साथ ही देश के कई हिस्सों में कोरोना के लिए उपयोगी सरक्षा किट को लेकर डॉक्टर और नर्स की तरफ से विरोध के स्वार आते रहेहैं. वे अपनी सरुक्षा को लेकर सरकार और प्रशासन पर हमला करती रही है. नर्सो ने कई बार यह कहा है कि अस्पताल में मास्क, पर्सनल प्रोटेक्टिव किट और सेनेटाइजर का अभाव है. इधर मेडिकल समान बनाने वाली कंपनी ने कहा है कि केंद्र सरकार ने मेडिकल उपकरणों को लेकर इतनी गंभीरता नहीं दिखाई है.

मेडिकल उपकरण बनाने वाली कंपनी ने कहा है कि सरकार ने इस महामारी से लड़ने के लिए जरूरी मेडिकल उपकरण बनाने की अनुनिति देने में देर से दी जिसके चलते देश ने पांच हफ्ते गंवा दिए हैं. आपको बता दें कि पूरे देश में सवास्थ्य कर्मी मेडिकल सुरक्षा की मांग कर रहे थे. अब मेडिकल कंपनियों के इस तरह के बयान सामने आ रहे हैं जिससे सरकार के उपर गंभीर आरोप लगते दिख रहे हैं. क्विंट मीडिया की एक रिपोर्ट के आधार पर प्रिंवेंटिव वियर मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष संजीव ने बताया कि पीपीई की कमी के मुख्य कारण को लेकर उन्होंने कहा कि सरकार की लेट प्रतिक्रिया है.

संजीव और पीपीई के अन्य निर्मातोओं का कहना है कि फरवरी में स्वास्थ मंत्रालय से संपर्क किया था और सरकार से पीपीई किट को स्टॉक करने का आग्रह किया था. लेकिन स्वास्थ विभाग ने कहा कि इसको लेकर केंद्र सरकारी की तरफ से कोई खबर नहीं आती है. संजीव ने कहा कि इस हमनने 21 मार्च तक सरकारकी तरफ से कोई मेल नहीं आया था. अगर सरकार 21 फरवरी तक मेडिकल उपरणो के बारे में बता देती तो आज किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं आती. उन्होंने आगे बोलते हुए कहा कि 5 से 8 मार्च के बीच राज्यों राज्य, सेना के अस्पताल और रेलवे अस्पतालों से टेंडर अपना शुरु हुए.

स्त्रोत-https://www.jansatta.com/national/corona-virus-lost-5-weeks-due-delayed-government-response-says-ppe-manufacturers/1368664/?utm_source=JSFBBot

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here