चैती छठ : आज सौभाग्य योग्य में खरना, कल रवियोग में शाम का अर्घ

0
176

चैती छठ पर गृह गोचरों का दुर्लभ संयोग बन रहा है जिसमे आदित्य योग, गजकेसरी योग, लक्ष्मी नारायण योग, रवियोग और सर्वार्थ सिद्धि योग शामिल हैं. मंगलवार को सर्वार्थ सिद्धि योग में व्रतियों ने नहाय खाय कर चार दिवसीय व्रत का संकल्प लिया. बुधवार से व्रतियों का निर्जला व्रत प्रारम्भ हो जाएगा. बुधवार को सौभाग्य योग में छठ व्रतियां संध्या में सूर्य की आराधना कर दूध, गुड़, अरवा चावल से बने प्रसाद को ग्रहण कर 36 घंटे का उपवास शुरू करेंगी.

छठ व्रती भगवान भास्कर को गुरूवार के रवियोग में सायंकाल अर्घ और शुक्रवार को सर्वार्थ सिद्धि योग में उदीयमान सूर्य को अर्घ देकर व्रती अपना संकल्प पूरा करेंगी. इसके बाद व्रतियों का चार दिवसीय छठ पर्व समाप्त हो जाएगा.

आपको बता दें कि छठ पर्व का प्रसाद गन्ने के कच्चे रस या गुड़ से तैयार किया जाता है. मान्यता के अनुसार इससे त्वचा रोग, आँख की पीड़ा व शरीर के दाग धब्बे समाप्त हो जाते हैं. चैती छठ के लिए बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन और बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने लोगो को शुभकामनाएँ दी हैं. लालजी टंडन ने कहा है की सूर्य की पूजा आराधना से चैती छठ पर्व बिहारवासियों के जीवन में सुख समृद्धि और आनंद लाये.

credit : muzaffarpur now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here