CM नीतीश कुमार ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का लिया जायजा, कुशेश्वरस्थान मंदिर में की पूजा अर्चना

0
921

बिहार में मानसून सक्रिय होने के बाद से हो रही बारिश के कारण कई जिलों में बाढ़ जैसे हालात हैं. बिहार सरकार की माने तो 15 से 20 जिलों में बाढ़ के हालात हो गए है. हालांकि अब गंगा नदी के जलस्तर में कमी आने के बाद बाढ़ में कमी आई है लेकिन अभी भी कई ऐसे जिले हैं जहां बाढ़ के हालात बने हुए हैं.

इसी कड़ी में सीएम नीतीश कुमार ने आज दरभंगा और मधुबनी जिले का हवाई सर्वेक्षण किया. इस दौरान उन्होंने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के विभिन्न पुलों एवं तटबंधों का निरीक्षण किया. बाढ़ प्रभावित जिलों के सर्वे के दौरान मुख्यमंत्री दरभंगा के कुशेश्वर स्थान पहुंचे जहां एनडीआरएफ की टीम के साथ स्टीमर में बैठकर बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा लिया. मुख्यमंत्री ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लोगों से भी मुलाकात की. इसके साथ ही मिथिला के प्रसिद्ध बाबा कुशेश्वरनाथ महादेव मंदिर जाकर आचार्य राजनारायण झा ने विधिवत मंत्रोच्चारण के साथ मुख्यमंत्री को रुद्राभिषेष कराया. इसके बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ जल संसाधन मंत्री संजय झा ने पूरे इलाके की वस्तु स्थिति दिखाई गई.

नीतीश कुमार अदलपुर में बाढ़ प्रभावित इलाके के भ्रमण के बाद विस्थापित परिवार से मिले इसके बाद सामुदायिक किचेन के साथ शंकरानंद मॉर्डन स्कूल ग्यासपुर में स्वास्थ्य कैम्प के साथ कोविड टीका करण केंद्र का निरीक्षण किया. इसके बाद सीधे मुख्यमंत्री स्थानीय विधायक स्व शशिभूषण हजारी के आवास पहुचे जहा शोक संतृप्त परिवार को ढांढस बढाया. इसके बाद मुख्यमंत्री ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि बाढ़ प्रभावित इलाके में हवाई सर्वेक्षण तो करते ही है यह इलाका छह महीनों तक पानी से प्रभवित रहता है इसे कैसे दूर किया जाय इसपर काम किया जा रहा है. इसके अलावा बाढ़ प्रभवित लोगो के लिए कैसे राहत चलाया जा रहा है उंसे भी देखे है.

उन्होंने बताया कि काफी दिनों के बाद यहाँ आने का मौका मिला है अब जब सभी मंदिर खोल दिये गए है ऐसे में यहाँ इस मंदिर में आकर पूजा पाठ किया. उपेन्द्र मुखिया माननीय मुख्यमंत्री जी को चांदी का मछली गिफ्ट दिए. समाज सेवक राजेन्द्र लाल वर्णवाल सैकड़ों आम जनता से हस्ताक्षर करवाकर अमन भूषण हजारी और उपेन्द्र मुखिया के माध्यम से 14 विषय पर कार्यवाई करने के लिए आवेदन दिए.  इसमें कुशेश्वर स्थान को राम सर्किट से जोड़ना ताकि कुशेश्वर स्थान तीर्थ स्थल को अंतर्राष्ट्रीय मान्यता मिले, कुशेश्वर स्थान में 5 फिट चौड़ा अंदर ग्राउंड नाला का निर्माण इत्यादि.

आपको बता दें कि हायाघाट रेलवे स्टेशन के पास मुंडा पुल पर बाढ़ के पानी आ जाने से दरभंगा-समस्तीपुर रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन भी बंद हो गया है. मुख्यमंत्री के इस दौरा के दौरान कई अधिकारी भी मुख्यमंत्री के साथ थे. मुख्यमंत्री ने एक एक चीज को बारिकी से देखा और इन इलाकों में चलाए जा रहे राहत कार्यों की भी जानकारी ली.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here