मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 15 अगस्त को इस योजना की करेंगे शुरुआत

0
477

प्रदेश को पर्यावरण संकट से बाहर निकालने और इस मुद्दे पर देश में उदहारण बनने के उद्देश्य से 15 अगस्त से जल-जीवन हरियाली अभियान आरंभ होगा। सीएम नीतीश कुमार इस अभियान को शुरुआत करेंगे। ऐसा माना जा रहा है कि ऐतिहासिक गाँधी मैदान में स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने के बाद इस अभियान को आरंभ करने का ऐलान किया जाएगा। इसके जरिये सरकारी कुआं, तालाब, आहर इत्यादि का जीर्णोद्धार किया जाएगा। 15 अगस्त से दिसंबर तक इस अभियान को युद्धस्तर पर चलाया जाएगा। इसके लिए ग्रामीण विकास विभाग को नोडल विभाग (MNRE) बनाया गया है। कृषि, पशु मतस्य संसाधन, नगर विकास, जल संसाधन, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, पीएचइडी, ऊर्जा और पंचायती राज विभाग को इसमें सम्मिलित किया गया है।

सीएम के आदेश पर पुलिस की विशेष शाखा ने गैर-कानूनी कब्ज़ा करने वाले कुओं तथा तालाबों को तलाशकर मुख्य सचिव को उनका आंकड़ा मौजूद करा दिया है। ऐसा माना जा रहा है कि अब तक लगभग 2 लाख कुओं की जानकारी मिल पाई है। अभी 11 जिलों से जानकारी आना बाकी है। सारे जिलों से रिपोर्ट आ गई तो गैर-कानूनी कब्ज़ा करने वाले कुओं का आंकड़ा 3 लाख को पार कर जाएगा। इनमें से सरकारी कुओं को फिर से शुरू किया जाएगा। जल-जीवन-हरियाली मिशन के जरिए राज्य में बड़े पैमाने पर पर्यावरण संरक्षण के लिए काम कराए जाएंगे। प्रदेश में सार्वजनिक इलाकों में तालाबों की तादाद 60 से 65 हज़ार हैं। नए जल निकायों या श्रोतों का सृजन सरकारी और निजी भूमि पर कराया जाएगा। बाढ़ के वक़्त नदियों के अतिरिक्त पानी को सूखाग्रस्त क्षेत्रों नवादा, गया, राजगीर में पहुँचाया जाएगा। सारे भूमिगत जल स्रोत चापाकल, कुओं के किनारे सोख्ता का निर्माण किया जाएगा।

प्रत्येक सरकारी तथा निजी भवन पर rain water harvesting system को लगाया जाएगा। सौर्य ऊर्जा (solar energy) को बढ़ावा देने के लिए निजी और गैर-निजी भवन पर ये सिस्टम लगाया जाएगा। हरियाली लाने के लिए बड़े पैमाने पर पौधरोपण होगा। इसमें सारे सरकारी अधिकारी और कर्मी के अलावा जनप्रतिनिधि भागीदार होंगे। कुआं, तालाब, आहर इत्यादि का जीर्णोद्धार होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here