बच्चों के चरित्र निर्माण को लेकर बिहार में पहली बार स्कूलों में नियुक्त शिक्षकों के लिए आचरण संहिता लागू

0
88

बिहार में पहली बार शिक्षकों के लिएआचरण संहिता लागू की गई है. यह संहिता प्राथमिक से लेकर प्लसटू तक के सरकारी विद्यालयों में नियुक्त नियोजित शिक्षकों के लिए पहली बार आचरण संहिता लागू की गई है. आपको बतादें कि नियोजित शिक्षकों के लिए चार संशोधित सेवाशर्ते अधिसूचित और लागू की गई है. इधर शिक्षकों के लिए बिंदुवार आचरण संहिता लागू की गई है.

नियोजित शिक्षकों को राज्य सरकार ने नई सेवा शर्त के साथ कई तरह की सुविधाएं दी है तो वहीं बच्चों के बेहतर भविष्य को ध्यान में रखते हुए शिक्षकों के ऊपर कई तरह की पाबंदियां भी लगाई गई है. इन पाबंदियों में शिक्षक न तो किसी प्रकार का नशा कर सकते हैं. न ही किसी राजनीतिक दल से किसी प्रकार का संबद्ध रहेगा. यदि ऐसा पाया गया तो उस पर आचरण संहिता के उल्लंघन के आरोप में कार्रवाई होगी.

इस पूरे मामले को लेकर विभाग के अपर मुख्य सचिव आरके महाजन द्वारा जारी अधिसूचना में कहा गया है कि प्रारंभिक और माध्यमिक-उच्च माध्यमिक शिक्षकों के लिए आठ आचार संहिताओं का पालन समान रूप से करना है. जबकि एक संहिता दोनों कोटि के शिक्षकों के लिए अलग-अलग हैं.

इधर शिक्षा विभाग के प्रवक्ता अमित कुमार ने बताया है कि आचरण संहिता नई नियमवली से नियुक्त शिक्षकों के लिए पहली बार लागू हुई है. इससे सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों का विशेष ख्याल रखा गया है. इसी के मद्देनजर उनमें अच्छे चरित्र निर्माण को लेकर शिक्षकों के लिए भी जरूरी वर्जनाएं तय की गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here