कोरोना वायरस वैक्सीन से एक कदम पीछे हैं वैज्ञानिक, जगी उम्मीद की किरण

0
532

भारत समेत विश्व के ज्यादातर देश कोरोना वायरस महामारी से जुझ रहे हैं. आपको बता दें कि कोराना वायरस से अबतक 11 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो गए हैं जबकि इस बीमारी से 61 हजार से ज्यादा लोग इस बीमारी की चपेट में आने से मौत हो गई है. अबतक इस बीमारी को लेकर कोई कारगर दवा का इजात नहीं हुआ है. वैज्ञानिक इस वायरस की रोकथाम को लेकर काम कर रहे हैं ऐसे में एक सुखद खबर आस्ट्रेलिया के मेलवर्ल से सामने आ रहा है. जहा वैज्ञानिकों की एक टीम कोरोना वायरस के रोकथाम की रोकथाम के लिए वैक्सीन की खोज के बहुत करीब पहुंच गई है.

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए काम कर रहे आस्ट्र्लिया के वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के 48 घंटे में खत्म करने का दावा किया है. कोरोना वैक्सीन की खोज कर रही डॉक्टरों की टीम ने कहा है कि परजीवियों को मारने वाली दवा ने कोरोना वायरस को खत्म कर दिया है. डॉक्टरों ने कहा है कि यह हमारे लिए और विश्व के लिए एक बड़ी कामयावी होगी. अब इसके बाद से इसका क्लिनिकल ट्रायल का रास्ता साफ हो जाएगा. क्लिनिकल ट्रायल के बाद अगर यह सफल रहता है तो यह हम सब के लिए एक बहुत ही अच्छी खबर होगी.

इस शोध को लेकर शोध कर रहे वैज्ञानिको ने कहा है कि इनवरनेक्टिन एक ऐसी ऐंटी-पैरासाइट ड्रग है जो एचाआईवी, डेंगु, इन्फ्लुएंजा और जीका वायरस जैसे तमाम रोगो में यह एक दम कारगार सावित हुआ है. हालांकि उन्होने यह भी कहा है कि यह स्टडी लैब मे की गई है और इसका लोगों पर परीक्षण करने की जरुरत है. वैगस्टाफ ने कहा है कि यह बहुत ही कारगर दवा है अब यह देखने की जरुरत है कि इसका कितना डोज इंसानों में कारगर होगा. यह हम सब के लिए काफी महत्वपूर्ण होगा. हम उस दौर से गुजर रहे हैं जब हमारे पास इस महामारी से जितने के लिए कुछ भी नहीं है ऐसे में हमें इस दवा से बहुत ही जल्द मदद मिल सकती है.

स्त्रोतः-https://navbharattimes.indiatimes.com/world/other-countries/anti-parasitic-drug-ivermectin-kills-covid-19-in-lab-grown-cells-says-study/articleshow/74984879.cms

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here