बाढ़ का कहरः मुजफ्फरपुर में बांध टूटा, 100 से अधिक गांवों में घुसा पानी

0
1738

उत्तर बिहार में बाढ़ विकराल रूप लेता जा रहा है. पहले ही उत्तर बिहार के 14 जिले बाढ़ की चपेट में हैं. उत्तर बिहार की ज्यादातर नदियां उफान पर हैं. रविवार की सुबह तीन बजे मुजफ्फरपुर जिले में तिरहुत नहर का बांध टूटने से दो प्रखंड मुरौल और सकरा के 100 से अधिक गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है.

बताया जा रहा है कि मुजफ्फरपुर जिले के महम्मदपुर कोठी चौक स्थित बूढ़ी गंडक नदी से जुड़े तिरहुत नहर का बांध पहले दस फीट टूटा उसके बाद पानी का बहाव इतना तेज रहा कि दोपहर तीन बजते-बजते करीब दो सौ फीट में बांध कट गया इसके बाद क्या था गांवों में पानी भरता देख ग्रामीण जान-माल की सुरक्षा में सड़क पर भागने लगे. गांव में जब पानी भग गया तो लोग सड़को की ओर भागने लगे. जिसके बाद से भिड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठीया भांजनी पड़ी.

 बाढ़ के बाद जब ग्रामीण अपना शरण लेने के लिए सड़कों पर पहुंचे तो वहां भीड़ को नियंत्रण करने के लिए पुलिस को बल का प्रयोग करना पड़ा इसको लेकर बोलते हुए जिलाधिकारी डॉ चंद्रशेखर सिंह ने कहा कि मुरौल में जहां नहर का तटबंध टूटा है वहां दो गांवों के लोग आपस में लड़ रहे थे. स्थति काफी तनावपूर्ण थी. दोनों गांवों के लोग आपस में पथराव करने लगे. स्थिति नियंत्रण करने के लिए पुलिस को सख्ती बरतनी पड़ी है.

बाढ़ का असर उत्तर बिहार के ज्यादातर जिलों में हैं मिथलांचल में भी बाढ़ तवाही मचा रही है. बाढ़ का असर दरभंगा जिले के केवटी प्रखंड की कर्जापट्टी पंचायत के विरने में पहुंच गया है. जहां शनिवार की देर रात एक बार फिर अधवारा पर बना पूर्वी महराजी बांध टूट गया. बाांध टुटने से करीब सौ घरों में बाढ़ का पानी घुस गया है. लेकिन ग्रामीण और विभाग के लोगों की मदद से अब बांध को ठीक कर दिया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here