लंका को ज-लाने के लिए विभिषण की जरूरत पड़ती है, और वो हमारे साथ हैं

0
418

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने गुरुवार को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) को रावण (Ravana) और कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया को विभीषण बता दिया. आपको बता दें की ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के बीजेपी ज्वाइन करने के बाद से बीजेपी और कांगेस की तरफ से बयानबाजी का दौर जारी है.

कमलनाथ सरकार पर तंज कसते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अगर रावण की लंका पूरी तकरह जलानी हो तो विभीषण की जरूरत होती ही है… और अब तो सिंधिया जी हमारे साथ हैं. शिवराज के इस बयान को मंदसौर के उस घटना के साथ जोड़ा जा रहा है. शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश के नेताओं के ऊपर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस छोड़ भाजपा में आये सिंधिया को पहले लोग महाराज कहते थे और अब माफिया कहते हैं. क्या एक दिन में सिंधिया जी महाराज से माफिया हो गए.

ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने के बाद भोपाल में भव्य स्वागत किया गया. जिसमें सभा को संबोधित करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मेरे कमलनाथ, मैने कहा था कि कार्यकर्ता के आये एक-एक आंसू का हिसाब लूंगा. उन्होंने आगे बोलते हुए कहा कि लेकिन आज हम यह संकल्प करते है कि कमलनाथ जब तक तुम्हारे पाप, अत्याचार, अन्यया, भ्रष्टाचार और आतंक की लंका को ज-लाकर रा-ख नहीं कर देते, हम चुप नहीं बैठेंगे. हम आराम से नहीं बैठेंगे. उन्होंने आगे बोलते हुए कहा कि अगर लंका ज-लानी हैं तो विभीषण की जरुरत होती है मेरे भाई, और अब सिंधिया जी हमारे साथ मौजुद हैं. उन्होंने कहा कि देख लेंगे एक एक बात का हिसाब लेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here