धन की बारिश के लिए ऐसे करें माता लक्ष्मी की पूजा, मंत्रियों ने दी शुभकमनाएं

0
494

आज 27 अक्टूबर रविवार  को दीपावली के दिन मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है, माता लक्ष्मी और गणेश की पूजा, इसके साथ ही साथ आज के दिन धन के देवता कुबेर की भी पूजा अर्चना की जाती है।
आज के दिन यह पूजा चित्रा नक्षत्र में होगी। रविवार को दीपावली होने की वजह से सूर्य देव की भी कृपा भक्तों को प्राप्त हो जाएगी। ये और भी शुभ है, क्यूंकि आज के दिन रवि पुष्कर, रवि प्रदोष और सौभाग्यसुंदरी संयोग बन रहा है। इस योग में अपने घर में धान या अन्न से भरे कलश की स्थापना करके पूजा करने से धन धान्य  पूर्ति होती है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार आज के विशेष पूजा विशेष मुहूर्त में करने से सालों भर देवी की कृपा बनी रहती है। ब्रह्म पुराण के अनुसार आधी रात के पूर्व ही पूजन कर लेनी चाहिए क्यूंकि इसी समय तक अमावस्या रहती है।

लाभ योग –

सुबह – 6.36 बजे से 7.59 तक

दोपहर – 4.16 बजे से शाम 5.39 बजे तक

अमृत योग

सुबह 7.59 बजे से 9.22 बजे तक

रात्रि – 8.54 बजे से 10.31 बजे तक

शुभ योग

दोपहर 10.44 बजे से 12.07 बजे

शाम – 7.16 बजे से रात्रि 8.54 बजे

स्थिर लग्न में गणेश-लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त

वृश्चिक लग्न – सुबह 7.21 बजे से 9.37 बजे तक

कुंभ लग्न – दोपहर 1.44 बजे से 03.15 बजे तक

वृष लग्न – संध्या 06 .21 बजे से रात्रि 08.18 बजे तक

सिंह लग्न – मध्यरात्रि 12.50 बजे से 03.04 बजे तक

अभिजीत मुहूर्त – दोपहर 11.11 बजे से, दोपहर 11.56 बजे तक

गुली काल मुहूर्त – दोपहर 02 .22 बजे से 03 .47 बजे तक

प्रदोषकाल मुहूर्त – संध्या 5.35 बजे से रात्रि 07.111 बजे तक

इन सामग्रियों के अर्पण से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती है

कौड़ी अर्पण करने से कर्ज से मुक्ति,
कमलगट्टा अर्पण करने से धन, स्थिरता,
कमल का फूल अर्पण करने से सौभाग्य एवं सुख की प्राप्ति,
चावल की खीर अर्पण करने से धन, धान्य,
पीली सरसों चढ़ाने से शत्रु बाधा का नाश तथा कर्ज से मुक्ति होती है।

दिवाली के दिन श्रीसुक्त, कनकधारा स्त्रोत एवं अशोक वृक्ष के नीचे घी का दीपक जलाने से भी मां लक्ष्मी की सदैव कृपा बनी रहती है।

आज के दिन माता के आठ स्वरूपों की पूजा की जाती है

दिवाली के दिन मां लक्ष्मी के आठ स्वरूपों की पूजा होती है।
धन लक्ष्मी एवं वैभव लक्ष्मी, गजलक्ष्मी, अधीलक्ष्मी, विजयालक्ष्मी, ऐश्वर्य लक्ष्मी, वीर लक्ष्मी, धान्य लक्ष्मी एवं संतान लक्ष्मी की पूजा होगी।

दीवाली के अवसर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दीपावली कि शुभकामनाएं देते हुए कहा है कि प्रकाश पर्व दीपावली अंधकार पर प्रकाश, अज्ञान पर ज्ञान और बुराई पर अच्छाई के विजय का प्रतीक है। अनेकता में एकता की मिसाल हमारी संस्कृति और भारतीय मनीषा के शुभ संकल्प का संदेश देती है। उन्होंने कामना की कि दीपों का यह महापर्व प्रदेश में प्रेम और सद्भाव लाए।लोगों के जीवन में सुख, शांति और समृद्धि लाए। मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों का आह्वान किया कि वे दीपावली को पारस्परिक सौहाद्र्र, सद्भाव और उल्लास के साथ मनाएंं।
इसके साथ ही साथ बिहार के राज्‍यपाल फागू चौहान, पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी, नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने बिहारवासियों को दिवाली की शुभकामनाएं दी हैं।
धन की बारिश के लिए ऐसे करें माता लक्ष्मी की पूजा, बिहारवा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here