बिहार की बढ़ी मुसीबत, 14 अगस्त से डॉक्टर जाएंगे हड़ताल पर

पहले से ध्वस्त हो चुकी बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था के लिए बुरी खबर है. पटना एम्स के सभी जूनियर डॉक्टर धरने पर बैठ गए हैं. इनकी मांग है कि इनकी प्रोत्साहन राशि बढ़ा दी जाए. वहीं खबर यह भी आ रही है कि पटना एम्स के डॉक्टर भी अपने मांगों के समर्थन में 14 अगस्त से हड़ताल पर जा रहे हैं. कोरोना के कहर के बीच ये बेहद परेशान करने वाली खबर है. सरकार के लिए भी और आम जनता के लिए भी.

PG courses to start at AIIMS-Patna next month | Patna News - Times ...

अनिश्चितकालीन हड़ताल की धमकी

अपनी कुछ पुरानी मांगों के समर्थन में एम्स के रेजिडेंट डॉक्टरों ने सरकार से 13 अगस्त तक फैसला लेने को कहा है तो वहीं धरने पर बैठे जूनियर डॉक्टरों की मांग है कि उनकी प्रोत्साहन राशि को बढ़ाया जाए. वहीं रेजिडेंट डॉक्टरों ने भी साफ कर दिया है कि अगर एम्स प्रशासन ने उनकी मांगों पर विचार नहीं किया तो वो 14 अगस्त से हड़ताल पर चले जाएंगे और इसकी जिम्मेवारी सरकार की होगी. डराने वाली खबर तो यह है कि ये डॉक्टर अनिश्चितकालीन हड़ताल की धमकी दे रहे हैं.

नया फैसला कतई मंजूर नहीं

डॉक्टरों के संगठन का कहना है कि हम कोरोना वायरस की महामारी के बारे में अच्छी तरह से जान रहे हैं. इसके खतरे के बावजूद हम लोगों ने 24 घंटे तक एक पैर पर खड़े होकर मरीजों की सेवा की है. बावजूद इसके हमारी किसी को कोई परवाह नहीं है. हमारी तैनाती को लेकर जिस प्रकार से नया फैसला लिया गया है, वो किसी भी कीमत पर मंजूर नहीं है और यही वजह है कि हम ने 14 अगस्त से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का फैसला ले लिया है. इसके लिए प्रशासन को 13 अगस्त तक का अल्टीमेटम दे दिया गया है. या तो हमारी मांगे मानी जाए अन्यथा 14 अगस्त से हड़ताल तय है. इस मामले पर एम्स प्रशासन या स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here