कोरोना काल में PM मोदी ने देश के नाम लिखा पत्र, कहा- आपदा या विपत्ति हमारा भविष्य तय नहीं कर सकती

0
482

कोरोना वायरस की चपेट में भारत समेत विश्व के ज्यादातर देश है. ऐसे में देश की अर्थव्यवस्था के साथ के साथ जीवन शैली में भारी बदलाव हुआ है. लोग अपने घरों में बंद हो गए हैं. ऐसे में पीएम मोदी ने देश के नाम एक पत्र लिखा है. जिसमें उन्होंने आने वाले दिनों में लोगों से निवेदन किया है कि धैर्य और जीवटता बनाए रखे. उन्होंने कहा है कि यह संकल्प की घड़ी है. कोई भी आपदा या विपत्ति 130 करोड़ भारतीयों का वर्तमान और भविष्य तय नहीं कर सकती है.

पीएम मोदी ने कहा है कि कोरोना वायरस के खिलाफ लंबी लड़ाई में विजय के लिए सरकार के प्रत्येक दिशा-निर्देश का पालन करना जारूरी है. वरना जीवन में हो रही असुविधा, जीवन पर आफत बन सकती है. मोदी ने कहा, हमें यह हमेशा याद रखना है कि 130 करोड़ भारतीयों का वर्तमान और भविष्य कोई आपदा या कोई विपत्ति तय नहीं कर सकती. हम अपना वर्तमान भी खुद तय करेंगे और अपना भविष्य भी. हम आगे बढ़ेंगे, हम प्रगति पथ पर दौड़ेंगे, हम विजयी होंगे.

प्रधानमंत्री ने कहा कि देशहित में किए कार्यों और निर्णयों की सूची बहुत लंबी है और एक साल के कार्यकाल के प्रत्येक दिन चौबीसों घंटे पूरी सजगता, संवेदनशीलता से काम हुआ और निर्णय लिए गए हैं. उन्होंने कहा कि यदि सामान्य स्थिति होती तो वे लोगों के बीच आते लेकिन वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से जो परिस्थितियां बनी हैं, उन परिस्थितियों में वे पत्र के माध्यम से अपनी बात रख रहे हैं.

उन्होंने कहा, हमें ये भी ध्यान रखना है कि जीवन में हो रही असुविधा, जीवन पर आफत में न बदल जाए. इसके लिए प्रत्येक भारतीय के लिए प्रत्येक दिशा-निर्देश का पालन करना बहुत आवश्यक है. जैसे अभी तक हमने धैर्य और जीवटता को बनाए रखा है, वैसे ही उसे आगे भी बनाए रखना है. उन्होंने प्रवासी मजदूरों, कारीगरों, छोटे उद्योगों, दुकानदारों, रेहड़ी पटरी वालों को हुई परेशानियों का जिक्र किया और कहा कि इनकी परेशानियां दूर करने के लिए सभी मिलकर प्रयास कर रहे हैं.

स्त्रोतः-https://hindi.news18.com/news/nation/prime-minister-narendra-modi-wrote-a-letter-the-fight-against-covid-19-3137461.html

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here