प्राथमिकी की डर से काम पर लौटे नियोजित शिक्षक, इन पर भी होगी कार्रवाई

0
273

सरकार के द्वारा नियोजित शिक्षकों (Niyojit Shikshak) पर प्राथमिकी की खबर के बाद खलबली मच गई है. शिक्षक अब योगदान देने के लिए तैयार हो गए हैं. प्राथमिकी की बात सामने आने के बाद नियोजित शिक्षकों ने कॉपी मूल्यांकन में योगदान दे दिया है. जिन शिक्षकों को नियुक्ति पत्र दिया गया था उनमें से ज्यादातर लोगों ने कॉपी के मुल्यांकन (Copy rating) में अपना योगदान दे दिया है. सरकार की ओर यह भी कहा गया है कि जो बचे हुए शिक्षक हैं उन पर प्राथमिकी दर्ज की जाएगी.

आपको बता दें कि पटना जिला में पटना जिला शिक्षा कार्यालय की माने तो इंटर कॉपी मुल्यांकन को लेकर जिन 12 सौ शिक्षकों को मूल्यांकन केलिए लगाया गया था. उसमें से 839 शिक्षकों ने अपना योगदान दे दिया है. गौरतलब है कि हड़ताल पर जाने के बाद पहले तो इन्होंने परीक्षा का बहिष्कार किया था उसके बाद उन्होंने कहा था कि कॉपी का मुल्यांकन भी नहीं करेंगे. लेकिन सरकार के कड़े रुख के बाद से शिक्षक कॉपी मुल्यांकन के लिए पहुंच रहे हैं.

जिला शिक्षा अधीक्षक ने निर्देश जारी करते हुए कहा था कि जिन शिक्षकों को मूल्यांकन के लिए नियुक्ति पत्र जारी किया गया है. अगर वह योगदान नहीं देते हैं तो उनपर कार्रवाई करते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी. उनपर सरकारी काम में बाधा डालने का आरोप लगाया जाएगा. आपको बता दें कि पटना जिला में 1200 शिक्षकों को कॉपी मुल्यांकन के लिए न्युक्ति पक्ष भेजा गया था जिसमें से 839 ने ज्वाईन कर लिया है. जिन्होंने ज्वाइन नहीं किया है उनपर प्राथमिकी दर्ज की जाएगी.

बिहार राज्य शिक्षक सं-घर्ष समन्वय समिति की अपील पर 17 फरवरी को ही नियोजित शिक्षकों ने हड़ताल कर दिया था. आज लगातार 11 वें दिन भी हड़ताल जारी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here