ईंट-पत्थरों के बगैर भी बन सकती है होटल…!

0
748

आधुनिक समय में जहां प्रौद्दोगिकी और सुविधा का विकास हुआ है वहीँ पर्यावरणीय समस्या भी आ खड़ी हुयी है। ऐसे में हर कोई अपने-अपने ढंग से प्रयासरत है। बेकार प्लास्टिक से जहां तैरता हुआ आईलैंड बनाया गया वहीँ दूसरी ओर कार्डबोर्ड से होटल भी बनकर तैयार हो चूका है। आज तक आपने ईंटें, सीमेंट, पत्थर से बने बेजोड़, और बेमिशाल होटल देखे होंगे लेकिन अभी तक आपने यह कार्डबोर्ड से बना होटल नहीं देखा होगा। बिलकुल पहली बार होटल को कार्डबोर्ड से बनाया गया है।

होटल के अंदर के सारे सामान को भी कार्डबोर्ड से बनाया है। जहां यह पूरी तरह से पारिस्थितिक तंत्र के लिए श्रेयस्कर है वहीँ भौतिकता में कोई कमी नहीं है और न ही किसी नजरिये से, संगमरमर और कीमती होटलों से कम है. कार्डबोर्ड से इसे पूरी तरह सजाया गया है। जिसकी सजावट देखते ही बनता है। होटलों में जितना सामान का उपयोग होता है लगभग सारे चीजें इन्ही से बनाई गयी है। लैम्प शेड्स , कुर्सी, टेबल, सोफा, सजावट की सारी वस्तुएं; यहां तक की कार्डबोर्ड से बनाये गए होटलों में अंदर और बाहरी डिजायनों के लिए भी इसी के भिन्न-भिन्न रूपों का प्रयोग हुआ है। एक ही मूल पदार्थ से बना यह विभिन्न वस्तुएँ और होटल बिलकुल भी अनाकर्षित नहीं लगता। इसकी कारीगरी और बारीकी आकर्षित है जहाँ यह सौ फीसदी रिसाइकल व बायोडिग्रेडेबल है.

वहीँ इसकी सफाई बिलकुल खास तरीके से की जाती है, वैक्स लेमिनेशन से. हाँ, इसमें एक डर अवश्य है आग का खतरा। उससे तो इसे नहीं बचाया जा सका है लेकिन जितनी सावधानी ईंट के बने मकानों या बिल्डिंग्स में करनी होती है ठीक वैसे ही इसमें भी होती है। हाँ बारिश से इसे अवश्य ही क्षति हो सकती है लेकिन वैज्ञानिकों ने इसे बहुत ही सुरक्षित तरह से बनाया है। इतना की बारिश में पूरी तरह से ईंटों और पत्थरों से बनी बिल्डिंग्स की तरह ही मजबूत है। इसके रंग हल्के और चित्ताकर्षक रखे गए हैं और सबसे खूबसूरत बात ये होटल विदेश की नहीं बल्कि अपने ही देश मुंबई के बांद्रा कुर्ला काम्पलेक्स में है, चाहे तो आप इसे देख सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here