पहले चरण का नामांकन खत्म होते ही यहां-यहां बंटने लगी मिठाइयां

0
436

बिहार में पंचायत चुनाव को लेकर गांवों में सियासत तेज हो गई है. मतदान प्रक्रिया शुरू होने के बाद से अब गांव में चुनावी राजनीति तेज हो गई है. बता दें कि पहले और दूसरे चरण की नामांकन प्रक्रिया समाप्त हो गई है. सोमवार को पहले चरण की नामवापसी की तारीख समाप्त हो गई है. ऐसे में इस दिन लोगों को सिंबल का भी बंटवारा किया जाना है. इसके साथ ही एक बड़ी खबर जमुई से सामने आई जिसमें जमुई जिला परिषद क्षेत्र संख्या 6 से दुलारी देवी अकेली उम्मीदवार है. नाम वापसी के दिन पांच लोगों ने अपना नाम वापस ले लिया है.

इधर, पंचायत चुनाव को लेकर तारापुर प्रखंड अंतर्गत आने वाले प्रभरा पंचायत क्षेत्र संख्या सात से पंचायत समिति के लिये खड़ा उम्मीदवार अश्विनी राज उर्फ पिंकू मेहता के विरुद्ध किसी अन्य उम्मीदवार ने नामांकन ही नहीं किया. इसके परिणामस्वरूप वोटिंग के पूर्व ही पिंकू मेहता निर्विरोध निर्वाचित हो सकते हैं. बता दें कि आगामी 24 सितंबर को पहले फेज के लिए होने वाले पंचायत चुनाव के पहले ही निर्वाचित होने की बात कही जा रही है. इस दौरान पंचायत समिति उम्मीदवार अश्विवनी राज उर्फ पिंकू मेहता ने कहा ये मेरी नहीं जनता कि जीत है. पिंकू मेहता के समर्थक इससे बेहद खुश हैं और एक दूसरे को रंग अबीर लगा कर जश्न मना रहे हैं.

जमुई जिले के जिला परिषद क्षेत्र संख्या 6 सिकंदरा पूर्वी से दुलारी देवी निर्विरोध निर्वाचित हो सकती है. बता दें कि सोमवार को नामांकन में नाम वापस लेने का आखिरी दिन था. दुलारी देवी को छोड़कर इस पद के लिए नामांकन किए सभी प्रत्याशियों ने अपना पर्चा वापस ले लिया है. अब इस हिसाब से दुलारी देवी निर्विरोध निर्वाचित मानी जा सकती है.

मिली जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि सिकंदरा पूर्वी जिला परिषद क्षेत्र संख्या 6 से दुलारी देवी का निर्विरोध निर्वाचित होना माना जा रहा है. सोमवार को नाम वापसी के दिन पति गुड्डू यादव सहित पांच अभ्यर्थियों द्वारा नामांकन पर्चा वापस लिए जाने के बाद यह संयोग बन पाया है. मीडिया में चल रही खबरो की माने तो यह जमूई के इतिहास में यह पहली बार है जब कोई उम्मीदवार इस तरह से निर्विरोध तरीके से जीत दर्ज कर सकती है. ऐसे में अब कहा जा रहा है कि चेयरमैन की कुर्सी पर दुलारी देवी की दावेदारी मजबूत हो गई है. बता दें कि इससे पहले भी चेयरमैन की कुर्सी के लिए दुलारी देवी के पती गुड्डु यादव ने काफी प्रयास किया था लेकिन वे वहां तक नहीं पहुंच पाए थे. लेकिन इस बार उम्मीद जताया जा रहा है कि उन्हें चेयरमैन की कुर्सी मिल सकती है.

बता दें कि दुलारी देवी पहले वह सिकंदरा पश्चिमी जिला परिषद 7 से पहली बार 2011 में चुनी गई थी. लेकिन वह सीट सुरक्षित होने के कारण उन्होने 2016 में वह क्षेत्र बदल ली और उसे बड़ी जीत मिली. अब जब साल 2021 के चुनाव मैदान में उतरी तो निर्विरोध हो गई. बता दें कि पहले चरण के नाम वापसी का दिन था और उस दिन छह में से पांच लोगों ने नाम वापस ले लिया. नाम वापस लेने वालों में पति गुड्डु यादव, रंजन सिंह, मनोज सिंह, संजीव सिन्हा एवं सतीश धानुक का नाम है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here