नेपाल और उत्तरी बिहार में हो रही बारिश से प्रदेश के 8 जिलों में 3 लाख से अधिक लोगों पर बाढ़ का कहर

0
198

नेपाल और उत्तरी बिहार के कई जिलों में लगातार हो रही बारिश से बाढ़ का खतरा बढ़ गया है. लगातार हो रही बारिश से उत्तरी बिहार के आठ जिले बाढ़ की चपेट में आ गए हैं. इन जिलों में 3 लाख लोगों पर बाढ़ का संकट मंडरा रहा है. बिहार में बाढ़ प्रभावित जिलों की बात करे तो सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल, किशनगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज और पूर्वी चंपारण शामिल है. इन 8 जिलों के 37 प्रखंड के 153 पंचायत फिलहाल पूरी तरह से बाढ़ की चपेट में आ गए हैं.

इस साल बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले जिलों में दरभंगा सबसे ज्यादा प्रभावित रहा है. यहां के 1 लाख 58 हजार लोग बाढ़ की चपेट में आ गए हैं. बिहार सरकार द्वारा बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद के लिए राहत शिविर भी चलाए जा रहे हैं, जहां लोगों के रहने और खाने की व्यवस्था है. बारिश के बीच उत्तर बिहार में नदियों के पानी में उतार-चढ़ाव का खेल जारी है. बिहार में गंगा नदी का बक्सर से लेकर भागलपुर तक जलस्तर बढ़ता जा रहा है. फरक्का में गंगा नदी खतरे के निशान से 12 सेंटीमीटर ऊपर है.

इधर गंगा नदी के जलस्तर में भी वृद्धि होने लगी है. बक्सर में ठोरा नदी, पटना में पुनपुन नदी समेत कई नदियां जो गंगा में मिलती है उसमें पानी का दवाब बढ़ने लगा है. उत्तर बिहार की गंडक, बूढ़ी गंडक, बागमती भी लगातार अपने तेवर दिखा रही हैं. मुजफ्फरपुर में बूढ़ी गंडक के कारण शहर के कई इलाकों पर पानी का दबाव बढ़ गया है.राज्य में आधा दर्जन नदियां लाल निशान से ऊपर ही बह रही हैं. बागमती दरभंगा, सीतामढ़ी और मुजफ्फरपुर में अब भी खतरे के निशान से ऊपर है. पिछले कुछ दिनों से नेपाल और उत्तरी बिहार में लगातार हो रही बारिश से उत्तरी बिहार में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here