सावधान ! अगले 24 घंटे में गंगा के जलस्तर बढ़ने में होगी तेजी

0
968

भागलपुर में गंगा के जलस्तर की गति धीरे-धीरे तेज होती जा रही है। गंगा के जलस्तर में धीमी इज़ाफ़े के बावजूद अभी भी भागलपुर शहर में गंगा नदी अपने उच्चतम स्तर 34.72 मीटर से 53 cm नीचे बह रही हैं। केंद्रीय जल आयोग के पूर्वानुमान के अनुसार, आने वाले 24 घंटे में गंगा के जलस्तर में और बढ़ोतरी हो सकती है।

जलस्तर में धीरे-धीरे इज़ाफ़े की रफ़्तार बढ़ रही है

मंगलवार को दोपहर बाद 3 बजे शहर के हनुमान घाट में गंगा 34.13 मीटर पर बह रही थी। आगामी 19 घंटे (बुधवार की सुबह दस बजे) गंगा नदी का जलस्तर 34.16 मीटर हो गया। दोपहर 3 तीन बजे गंगा का जलस्तर 34.17 मीटर था तो शाम 6 बजे तीन cm की वृद्धि के साथ 34.18 मीटर हो गया। रात 8 बजे गंगा का जलस्तर 34.19 मीटर हो गया था। केंद्रीय जल आयोग के मुताबिक, बुधवार को दोपहर तक गंगा का जलस्तर स्थिर था लेकिन शाम होते-होते समाप्त हो गया। अभी प्रत्येक घंटे 0.5 cm की गति से गंगा बढ़ रही है।

225 से ज्यादा गांव पानी से घिरे

भागलपुर जिले के लगभग 225 से ज्यादा गांव गंगा में आई बाढ़ के पानी से घिर चुके हैं। कहलगांव-पीरपैंती का शहर से संपर्क टूट गया है। अब केवल आने-जाने के लिए ट्रेन ही जरिया बचा है। जबकि भागलपुर शहर में आदमपुर क्षेत्र के बैंक कॉलोनी, वार्ड संख्या 4, 21, 22 सहित आधा दर्जन वार्डों के निचले क्षेत्र के बहुत घर बाढ़ के पानी से घिर गये हैं। इसके अलावा तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के PG छात्रावास, प्रशासनिक भवन बाढ़ के पानी में घिर चुका है।

इंजीनियरिंग कॉलेज का छात्रावास, क्वार्टर मेस और प्रशासनिक भवन परिसर में 1.5 से 3 फीट तक पानी भर गया है। IIIT परिसर भी बाढ़ के पानी में आंशिक तौर पर घिर चुका है। इसके CMS स्कूल सहित जिले के 130 से ज्यादा स्कूल बाढ़ के पानी की घेरे में आ चुके हैं। शहर से सटे बाढ़ प्रभावित गांवों के लोग TMBU के टिल्हा कोठी परिसर और TNB कॉलेजिएट परिसर में अस्थायी राहत शिविर में अपना-अपना ठिकाना बना चुके हैं, जबकि सबौर इलाके के बाढ़ प्रभावित गांवों के लोग हवाई अड्डा परिसर और सबौर स्कूल में अपना-अपना टेंट लगा चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here