गरमाई सियासत के बीच मांझी का बड़ा बयान, कहा- भाजपा का आंदोलन जायज

0
592

बिहार की राजनीति में वर्तमान में तीन घटना ट्रेंड कर रही है, जिसमे पटना यूनिवर्सिटी में हुए छात्रसंघ चुनाव को लेकर जदयू और भाजपा में राजनीतिक बहस छिड़ गई है ,वहीं दूसरी तरफ तेजस्वी यादव के बंगले को लेकर घमासान मचा हुआ है. इसके अलावा रालोसपा नेता उपेन्द्र कुशवाहा का एनडीए से अलग होने के संशय पर भी राजनीति तेज है. कुल मिलाकर कहा जाए तो बिहार में अभी सियासत चुनाव से पहले ही चरम पर है .

बिहार के गरमाई सियासत के बीच दिग्गज नेता अपने बयान को लेकर सुर्ख़ियों में है. पटना में हुए छात्रसंघ चुनाव में जदयू और अभाविप की जीत को लेकर जहां छात्र राजद ने हंगामा शुरू कर दिया है वहीं अब इस मामले को लेकर  महागठबंधन के सीनियर नेता भी मैदान में कूद पड़े है . बिहार के पूर्व सीएम व हम के नेता जीतन राम मांझी ने भी इस मामले को लेकर जदयू पर हमला किया.

पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने इस मामले में भाजपा का समर्थन करते हुए कहा कि छात्रसंघ चुनाव में जदयू राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर का होना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है . उन्होंने कहा कि पीके के खिलाफ भाजपा का आन्दोलन जायज है . उन्होंने कहा कि प्रशांत किशोर ने चुनाव को प्रभावित किया है. उन्होंने आचारसंहिता का भी उल्लंघन किया है उनपर कानूनी कारवाई होनी चाहिए . मांझी ने आगे कहा कि अगर अभाविप के छात्रों को गिरफ्तार किया जा सकता है तो फिर PK को क्यों नही ?

इस मामले को लेकर मांझी ने आगे कहा कि छात्र संगठनो में इस बात की चर्चा है कि चुनाव के रिजल्ट में धांधली की गई है . उन्होंने आगे कहा कि अगर ऐसा हुआ है तो यह बिहार की राजनीति का काला दिन है. उन्होंने आगे कहा कि चुनाव का रिजल्ट PK और VC से मिलीभगत से हुई है ,ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है .

  • 310
  •  
  •  
  •  
  •  
    310
    Shares
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here