भारत-चीन सीमा पर चल रहे गतिरोध के बीच गया के होटल, रेस्टोरेंट में चीनी यात्रियों की इंट्री पर बैन

0
388

भारत चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद का असर अब सीधा पर्यटन पर इसका असर पड़ा है. इससे पहले कोरोना काल में भी इस सेक्टर को काफी नुकसान उठाना पड़ा है अब भारत चीन के साथ चल रहे सीमा विवाद को लेकर अब एक बार फिर से बोध गया में चीन नागरिकों को ठहरने के लिए कोई भी होटल या कमरे नहीं देंगे इतना ही नहीं रेस्टोरोंट में भी उनका प्रवेश निषेध कर दिया गया है.

बोधगया होटल एसोसिएशन एवं बोधगया रेस्टोरेंट एसोसिएशन ने एक बैठक कर यह निर्णय लिया है. बोधगया होटल एसोसिएशन के महासचिव सुदामा कुमार ने बताया कि बोधगया होटल एसोसिएशन ने बोधगया आनेवाले चीनी यात्रियों का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है. बोधगया होटल एसोससिएशन ने कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स एसोसिएशन के साथ मिलकर देशहित में चीनी उत्पादों और चीनी पर्यटकों का बोधगया में बहिष्कार का निर्णय लिया है. इसके साथ ही यहां कहीं भी चीनी नागरिकों को रहने के लिये कोई भी कमरा नहीं दिया जाएगा. संगठन ने कैट के चीनी सामग्री बहिष्कार के अभियान का भी समर्थन करते हुए यह निर्णय लिया है. व्यवसायियों ने कहा कि भारत अतिथि देवो भव: के तर्ज पर चलता है लेकिन चीन युद्ध की नीति पर चलेगा तो हम बुद्ध की नीति पर नहीं चलेंगे.

भारत चीन सीमा पर हुए हिंसक झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए. सुदामा ने बताया कि भारतीय वीर सैनिकों पर पिछले दिनों घात लगाकर हमला किया जिससे हमारे बीसों जवान शहीद हो गए. निश्चय ही उनकी ये कायराना हरकत है और विश्वासघात के तहत बातचीत के लिए गए हमारे सैनिकों पर हमला किया गया है. सुदामा ने बताया कि कुछ वर्ष पूर्व भी चीनियों ने इंडो चीनी भाई-भाई के मंत्र को तार-तार करते हुए भारत चीन के एक अन्य सीमाक्षेत्र डोकलाम में भी इसी तरह से हाथापाई की थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here