सत्तर घाट पुल को लेकर चिराग पासवान ने साधा निशाना, कहा ZERO CORRUPTION पर सवाल उठाती है घटनाएं

0
420

गोपालगंज में गंडक नदी पर 264 करोड़ की लागत से बना सत्तर घाट एप्रोच पथ टूट जाने के बाद बिहार में सियासत तेज हो गई है. बिहार में विपक्षी पार्टीयां सरकार पर लगातार हमला कर रही है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव से लेकर रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के साथ ही एलजेपी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने भी नीतीश सरकार पर सावल उठाए हैं. चिराग पासवान ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि इस तरह की घटनाएं सवाल उठाती है. इसीलिए इसकी जांच होनी चाहिए.

लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने एप्रोच रोड का फोटो शेयर करते हुए ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने लिखा हैकि 264 करोड़ की लागत से बने पुल का एक हिस्सा आज ध्वस्त हो गया है जनता के पैसे से किया कोई भी कार्य पूरी गुणवत्ता से किया जाना चाहिए. इस तरह की घटनाएं जनता की नजर में ZERO CORRUPTION पर सवाल उठाती हैं. लोजपा मांग करती है की उच्च स्तरीय जांच कर जल्द दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करें.

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सीॉएम नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए लिखा है कि 263 करोड़ से 8 साल में बना लेकिन मात्र 29 दिन में ढह गया पुल. संगठित भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह नीतीश जी इस पर एक शब्द भी नहीं बोलेंगे और न ही साइकिल से रेंज रोवर की सवारी कराने वाले भ्रष्टाचारी सहपाठी पथ निर्माण मंत्री को बर्खास्त करेंगे. बिहार में चारों तरफ लूट ही लूट मची है.

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने भी सवाल उठाते हुए कहा, बांध को तो चूहे कुतर देते थे, लेकिन अभी कुछ हफ़्तों पूर्व, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के कर कमलों से उद्घाटन हुआ सत्तरघाट पुल को कहीं कागजी चीटियां तो नहीं चट कर गयीं.

सरकार की तरफ से जवाब देते हुए संजय झा ने ट्वीटकरते हुए लिखा है कि मीडिया में सत्तर घाट पुल के क्षतिग्रस्त होने की खबर चल रही है, जो सही नहीं है।

तथ्य यह है कि सत्तर घाट मुख्य पुल से करीब दो किमी दूर गोपालगंज की ओर एक 18 मीटर लंबे छोटे पुल का पहुंच पथ (सड़क), जो गंडक नदी के तटबंध के अंदर है, पानी के दबाव से कट गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here