जवान हुआ IAS टॉप; जज्बे ने दिलाई ‘नई पहचान, बड़ी मुकाम’

0
611

आपकी खूबियों को दूसरे नकार सकते हैं लेकिन आप खुद अपने खूबियों को कभी न नकारें। परिस्थितियाँ मुश्किल तो आती है लेकिन अपने सपने से समझौता न करें , धीमे ही सही रणनीति बनाकर यदि आप लगातार मेहनत करते हैं तो एक दिन सफलता जरूर ही मिलती है और आपकी जिंदगी बदल जाती है.

दृढ़ निश्चय और कड़ी मेहनत को सफलता का मूल मन्त्र बताने वाले हरप्रीत सिंह ने बड़ी कामयाबी हासिल की. वे 2016 में बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (BSF) के जवान थे और देश की सुरक्षा के लिए उन्हें भारत और बांग्लादेश की सीमा पर तैनात कर दिया गया. देश की सुरक्षा करते हुए उन्होंने समय निकालकर सबसे कठिन माने जाने वाली परीक्षा यूपीएससी की आईएएस की परीक्षा में पूरे देश में 19 वां रैंक वर्ष 2018 में हासिल किया।

हरप्रीत सिंह कहते हैं कि उनके दिमाग में यह बात पूरी तरह साफ थी कि उन्हें आईएएस बनना है. वे समय निकलकर इसकी तैयारी करने लगे हालाँकि वे जो कार्य करते थे वह भी उन्हें पसंद था वे उस मुश्किल कार्य को पसंद भी किया करते थे. वे पांचवी बार में यह सफलता हासिल की। 2017 में वे इस परीक्षा में सफल हुए थे लेकिन 454वीं रैंक मिली थी जिसके बाद वे इंडियन ट्रेड सर्विस के लिए चयनित हो गए. उन्होंने इसे ज्वाइन कर लिया और फिर अगले वर्ष 2018 में यूपीएससी की परीक्षा दी और उन्हें सफलता मिल गई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here