नेपाल में हो रही भारी बारिश से बिहार में बाढ़ का खतरा मंडराया, इन नदियों में बढ़ा जलस्तर

0
487

नेपाल में पिछले कुछ दिनो से हो रही बारिश से बिहार में नदियों के जल स्तर में वृद्धि हो रही है. हालांकि प्रदेश की सभी नदियां लाल निशाने से नीचे बह रही है. पर प्रदेश में बाढ़ का खतरा बढ़ रहा है. तीन दिनों से लगातार बारिश से बागमती, बूढ़ी गंडक, गंडक के साथ ही अधवारा समूह की नदियों के जलस्तर में कई स्थानों पर बढ़ोतरी हुई है.

प्रदेश में हो रही है लगातार बारिश से मुजफ्फरपुर में बागमती में पानी का स्तर बढ़ने लगा है. शुक्रवार को बेनीबाद में 47.39 मीटर पर पहुंच गया था जबकि यहां खतरे का निशान 48.68 मीटर पर है. रेवाघाट में गंडक नदी गंडक का जलस्तर 53.17 मीटर पर रिकार्ड किया जबकि यहां खतरे का निशान 54.41 मीटर पर है. सिंकदरपुर में बूढ़ी गंडक 46.22 मीटर पर जलस्तर रिकार्ड किया गया जबकि यहां खतरे का निशान 52.53 मीटर है. समस्तीपुर में गंगा व बूढ़ी गंडक में जलस्तर के बढ़ने का सिलसिला जारी है.

बिहार में सबसे खतरनाक मानी जा रही कोशी का जलस्तर बढ़ता जा रहा है. इसी का नतीजा था कि शुक्रवार की सुबह एक लाख 62 हजार क्यूसेक पानी डिस्चार्ज किया गया. जबकि मधुबनी जिले के कमला, कोसी बलान एवं अधवारा समूह की सभी नदियां खतरे के निशान से नीचे बह रही है. वहीं कमला नदी झंझारपुर में खतरे के निशान के करीब 75 सेंटिमीटर नीचे थी.

नदियों में लगातार बढ़ रहे जलस्तर के बीच में मौसम विभाग ने 29 जून तक भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है. जिसमें मुजफ्फरपुर जिले के कटरा, औराई और गायघाट के बाढ़ प्रभावित इलाके के लोग चिंता में हैं. वहीं, सीतामढ़ी में बागमती व अधवारा समूह की नदियों के जलस्तर में वृद्धि हुई है. हालांकि मधुबनी जिले के कमला, कोसी, बलान एवं अधवारा समूह की सभी नदियां खतरे के निशान से नीचे बह रही हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here