अगर आपका ATM खो जाए या कोई चोरी कर ले तो करें ये काम

0
205

हमलोग अपने पर्स की सुरक्षा तो हम करते ही है. लेकिन कई बार ऐसा होता है कि जब हमारा ध्यान अपने पर्स या फिर ATM Card पर नहीं होता है तो फिर कही खो जाता है. ऐसे में हमारे कई दास्तावेज गुम हो जाता है. कार्ड खो जाने पर सबसे पहला डर ये सताता है कि कहीं कोई आपके ATM कार्ड की मदद से आपको पैसे ना निकाल ले. ऐसे में सबसे पहला डर ये सताता है कि कहीं कोई आपके एटीएम कार्ड की मदद से आपके पैसे ना निकाल ले. भले ही इसके लिए उसे एटीएम पिन की जरूरत होगी, लेकिन अगर कार्ड किसी गलत हाथ में पहुंच गया तो पैसे जाने का खतरा भी रहता है. अब सवाल ये है कि अगर एटीएम कार्ड खो जाए तो अपने पैसे चोरी होने से कैसे बचाएं?

जब आपका ATM Card खो जाए तो सबसे पहले आप अपने बैंक को सूचित करें और अपना ATM कार्ड ब्लॉक करवा दें, ताकि कोई चाहकर भी उससे पैसे ना निकाल सके. इसके लिए आप बैंक को कस्टमर सर्विस के नंबर पर कॉल कर सकते हैं. बैंक की वेबसाइट पर लॉगिन कर के कार्ड ब्लॉक कर सकते हैं. या फिर बैंक के ऐप से अपना कार्ड ब्लॉक करवा सकते हैं. इसके अलावा आप बैंक में दूसरा कार्ड इश्यू करने के लिए आवेदन कर दें. अगरआपको लगता है कि आपका कार्ड चुराया है और उससे पैसे निकालने की कोशिश की है तो इसे लेकर एक FIR भी जरूर करवाएं. जिसे संभाल कर रखें हो सकता है कि नया कार्ड जारी करने से पहले बैंक आपके FIR की कॉपी मांगे. वैसे तो FIR कराने के बाद भी कार्ड के वापस मिलने की चांस बहुत ही कम होते हैं. लेकिन हो सकता है कि आपकी शिकायत की वजह से कार्ड चोरी करने वाला कोई गैंग ही पुलिस के हत्थे चढ़ जाए.

आम तौर पर जब आप अपने कार्ड को ब्लॉक करने की रिक्वेस्ट डालेंगे तभी बैंक आपसे पूछ कर नया डेबिट कार्ड भी जारी कर देगा. हालांकि, बैंक इससे लिए आपसे कुछ चार्ज ले सकता है. मसलन आपको नया कार्ड के लिए और उसे कूरियर करने के लिए कुछ पैसे खर्च करने पड़ सकते हैं. नया कार्ड आपको 2 से 3 दिन में बैंक की तरफ से डिस्पैच कर दिया जाता है. यानी 4 से 5 दिन के अंदर नया कार्ड आपके हाथ में होगा.

जब आप किसी इंटरनेट, एप पर कोई भी बैकिंग ट्रांजेक्शन करते है तो सेव डिटेल्स के ऑप्शन को अनचेक ही रखें. कई बार ऐसा होता है कि आपके कार्ड की डिटेल्स ऑनलाइन सेव हो जाती है. जिसके जरिए आपके कार्ड का सिर्फ सीवीवी डालकर ट्रांजेक्शन पूरा किया जा सकता है. तो इस ऑप्शन को कभी भी टिक ना करें. थोड़ी सी सहूलियत के बदले आपके बैंक खाते के पूरे पैसे साफ होने का रिस्क कतई ना लें. अपने बैंकिग SMS अलर्ट को चालू रखें ताकि आपके कार्ड से होने वाले लेन-देन की जानकारी आपको मिलती रहे.

इसके अलावा आप एटीएम कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो आपके लिए ये बातें भी ध्यान रखने वाली हैं

  • एटीएम से पैसे निकालने या अन्य उपयोग के बाद कैंसिल बटन को जरूर दबाएं.
  • बैंक में अपना मोबाइल नंबर और मेल एड्रेस जरूर दर्ज कराएं ताकि नकदी निकलने का अलर्ट SMS और मेल से तुरंत मिले.
  • लेन देन के लिए किसी अन्य को एटीएम कतई न दें.
  • हर 2-3 महीने पर एटीएम-क्रेडिट पिन बदलते रहें.
  • एटीएम-क्रेडिट कार्ड प्रोटेक्शन प्लान्स

आजकल कई बैंक या इंडिविज्यूअल कंपनियां ऐसे कार्ड सेफ्टी प्लान लाईं है जिसमें आपके वॉलेट के लिए सुरक्षा कवर मिलेगा. कई बैंकों ने इस प्लान को अपने प्रोडक्ट्स के साथ जोड़ा है. अगर आप उस बैंक के क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड होल्डर है तो बैंक आपको ये सुविधा देते हैं. लेकिन अगर आपके बैंक में ये सुविधा नहीं है तो अलग से भी प्लान ले सकते हैं. ये ऐसे कार्ड प्रोटेक्शन प्लान होते हैं जिसमें क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से संबधित धोखाधड़ी से सुरक्षा मिलती है. इसके जरिए अगर आपका कार्ड खो जाए, चोरी होने के बाद उससे फ्रॉड ट्रांजेक्शन हो जाए तो बैंक एक खास लिमिट तक आपको पूरा ट्रांजेक्शन का पैसा रिफंड करता है और आप विदेश या किसी ऐसी जगह हैं जहां आपको अचानक पैसे की जरूरत पड़े तो कैश (कई बैंकों में 50,000 रुपये) तक इंस्टेंट दिला देता है ताकि आप आर्थिक संकट में ना फंस जाएं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here